EWS मकानों की रजिस्ट्री अब 500 रुपए के स्टांप पेपर पर, UP कैबिनेट का फैसला

Somya Sri, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 9:33 AM IST
  • यूपी के शहरों में निजी बिल्डरों द्वारा बनाए जाने वाले ईडब्ल्यूएस मकान को लेने वाले लोगों के लिए ये राहत की खबर है. फैसले के मुताबिक 5 दिसंबर 2013 की शर्तों के अधीन निजी विकासकर्ता द्वारा निर्मित ईडब्ल्यूएस मकानों को खरीददारों के पक्ष में होने वाली रजिस्ट्री अब 500 रुपये के स्टांप पेपर पर होगी.
EWS मकानों की रजिस्ट्री अब 500 रुपए के स्टांप पेपर पर, UP कैबिनेट का फैसला (प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में ईडब्ल्यूएस मकानों की रजिस्ट्री अब 500 रुपये के स्टांप पेपर पर होगी. यूपी के शहरों में निजी बिल्डरों द्वारा बनाए जाने वाले ईडब्ल्यूएस मकान को लेने वाले लोगों के लिए ये राहत की खबर है. फैसले के मुताबिक 5 दिसंबर 2013 की शर्तों के अधीन निजी विकासकर्ता द्वारा निर्मित ईडब्ल्यूएस मकानों को खरीददारों के पक्ष में होने वाली रजिस्ट्री पर यह सुविधा देने का फैसला हुआ.

हालांकि इसका लाभ लेने के लिए लोगों को पहले आवास आयुक्त आवास विकास परिषद, उपाध्यक्ष विकास प्राधिकरण, मुख्य कार्यपालक अधिकारी, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण, विहित प्राधिकारी विनियमित क्षेत्र के अधिकारी से लिखित तथ्य की पुष्टि करने के लिए साक्षी के रूप में हस्ताक्षर लेना होगा.

त्योहारों से पहले महंगाई की मार! घरेलू LPG गैस सिलेंडर 15 रुपए हुआ महंगा

बता दें कि योगी कैबिनेट से पहले ही कर एवं निबंधन विभाग ने आवास विकास परिषद, विकास प्राधिकरण और प्रधानमंत्री आवास योजनाओं में बनने वाले ईडब्ल्यूएस मकानों पर पहले से ही ये सुविधा दे रखी है. यानी की इन मकानों पर पहले से ही कर एवं निबंधन विभाग की ओर से 500 रुपये के स्टांप पर रजिस्ट्री की सुविधा है. हालांकि योगी सरकार की कैबिनेट के इस फैसले से लोगों में खुशी है. क्योंकि अब निजी बिल्डरों द्वारा बनाए जाने वाले ईडब्ल्यूएस मकान में भी लोगों को 500 रुपये के स्टांप पर रजिस्ट्ररी की सुविधा मिल सकेगी. आवास विकास परिषद, विकास प्राधिकरण और प्रधानमंत्री आवास योजनाओं में बनने वाले ईडब्ल्यूएस मकानों के साथ साथ निजी बिल्डरों द्वारा बनाए जाने वाले ईडब्ल्यूएस मकान में भी 500 रुपये के स्टांप पर रजिस्ट्ररी की सुविधा मिलेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें