CM योगी आदित्यनाथ ने कराया रियलिटी चेक, 14 DM और 16 SSP दफ्तरों से मिले गायब

Prince Sonker, Last updated: Fri, 1st Oct 2021, 7:01 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आज सभी जिलों में जनता दर्शन कार्यक्रम का रियलिटी चेक किया गया. इसमें 14 डीएम और 16 पुलिस कप्तान अपने दफ्तरों से नदारद मिले. इन सभी अधिकारियों को नोटिस जारी कर स्‍पष्‍टीकरण मांगा गया है.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ,(फाइल फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में प्रशासनिक अधिकारी मुख्यमंत्री के आदेशों को कितनी गंभीरता से ले रहे हैं इसकी एक बानगी शुक्रवार को तब देखने को मिली जब अधिकारियों की वास्तविक लोकेशन जानने के लिए रियलिटी चेक किया गया. इसमें कई अधिकारी अपने दफ्तरों में नदारद मिले. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर जनता दर्शन की रियलिटी चेक करने के लिए प्रदेश के सभी जिलों के जिलाधिकारियों और कप्तानों को उनके लैंडलाइन पर फोन किया गया. अचानक हुए इस रियलिटी चेक में 14 डीएम और 16 पुलिस कप्तान अपने दफ्तरों में नहीं मिले. अब इनके खिलाफ नोटिस जारी कर स्‍पष्‍टीकरण मांगा गया है.

दरअसल सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी आला अधिकारियों को प्रतिदिन अपने दफ्तरों में सुबह 10 बजे से 12 बजे तक जनता दर्शन कर फरियादियों की समस्याएं सुनने के आदेश दिए हैं. इसके चलते जिलाधिकारियों और पुलिस अधिकारियों की लोकेशन जानने के लिए उनके दफ्तरों पर लखनऊ से फोन किए गए. जिलाधिकारियों को मुख्यमंत्री कार्यालय और मुख्य सचिव कार्यालय से फोन किया गया. वहीं पुलिस विभाग की स्थिति जानने के लिए अपर मुख्य सचिव (गृह), डीजीपी कार्यालय, व एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर कार्यालय से फोन किया गया. हैरानी की बात यह है कि दो बार किए गए रियलिटी चेक में अधिकारी अपने दफ्तरों से गायब मिले. पहली बार सुबह साढ़े 9 बजे और फिर दूसरी बार 10 बजे के बाद फोन करके ऑफिस में अधिकारियों की उपस्थिति के बारे में जानकारी ली गई.

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले प्रशासनिक फेरबदल, 7 आईपीएस और 48 पीसीएस का ट्रांसफर

मिली जानकारी के अनुसार शामली समेत करीब 16 जिलों के पुलिस कप्तान और बांदा, प्रतापगढ़ सहित 14 जिलों के डीएम अपने कार्यकाल में नहीं मिले. दफ्तरों में गैरहाजिर पाए गए इन जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को नोटिस जारी किया गया है,जिसमें इन अधिकारियों से दफ्तर में उपस्थित न रहने का कारण पूछा गया है. माना जा रहा है कि सही जवाब नहीं देने पर इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई हो सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें