अब यूपी में रेड़ी वालों से भी लिया जाएगा यूजर चार्ज, कैबिनेट की बैठक में इसपर होगा निर्णय

Smart News Team, Last updated: 05/02/2021 09:06 AM IST
  • सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार उत्तर प्रदेश के सभी शहरों में सड़क किनारे दुकान लगाने वालों से भी यूजर चार्ज लेनी की तैयारी कर रही है. वहीं इस योजना पर यूपी की होने वाली कैबिनेट बैठक में निर्णय लिया जाएगा.
अब यूपी में रेड़ी वालों से भी लिया जाएगा यूजर चार्ज, कैबिनेट की बैठक में इसपर होगा निर्णय

लखनऊ. योगी सरकार अब यूपी के शहरों में नाई की दुकान हो या फिर किसी की खोमचे या गोमती में अपनी दुकान लगाने वाले या फिर गाड़ियों में खाना बनाने वाले हो सभी को खुड़ा उठाने के बदले प्रतिमाह यूजर चार्ज लेगी. सभी दुकानदारों के लिए यूजर चार्ज देने की व्यवस्था को 1 अप्रैल से लागू भी कर दिया करेगा. वहीं इस यूजर चार्ज को हर साल पांच फीसद तक बढ़ाया भी जाएगा. इस नियमावली को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की होने वाली कैबिनेट बैठक में मंजूरी भी मिल जाएगी.

यूजर चार्ज की वसूली सिर्फ बड़े शहरों में ही नहीं लिया जाएगा, बल्कि इसे राज्य के छोटे शहरों में भी वसूला जाएगा. ये यूजर चार्ज सभी शहरों के आवासीय, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के साथ साथ छोटे बड़े दुकानदारों के साथ अन्य अभी संस्थानों से भी इसे वसूला जाएगा. आपको बता दे कि अभी तक इस यूजर चार्ज को सिर्फ कुछ ही नगर निगम क्षेत्र में ही वसूला जाता रहा है, लेकिन इसे अब प्रदेश के सभी नगर निकायों में इसकी वसूली शुरू की जाएगी.

पशुधन घोटाला: निलंबित DIG अरविंद सेन ने मुख्य आरोपी से संबंध कुबूले, देंखे बयान

इस यूजर चार्ज का रेट सभी जगह एक नहीं रहेगा. सभी जगह पर कूड़ा उठाने का रेट वर्ग फिट के आधार पर तय किया गया है. उन शहरों में इस रेत का दाम 40 रुपए रहेगा जहां पर उसकी आबादी 6 लाख से अधिक है और इसे अवासीय घरों से लाया जएगा. जिनका वर्ग फीट करीब 500 तक हो. वहीं छह लाख से कम आबादी और पालिका परिषद में 35 और नगर पंचायत में 30 रुपए लिए जाएंगे. साथ ही 500 से 2000 वर्ग फीट पर क्रमशः 100, 80, 75 और 50 रुपए यूजर चार्ज लिया जाएगा. इसके साथ ही सड़क किनारे गोमती, खोमचे, फुटपाथ, ठेला पर दुकान लगाने वालों से यूजर चार्ज 35 से 200 रुपए तक लिया जाएगा और यह चार्ज शहरों के हिसाब से लिया जएगा.

यूपी बोर्ड परीक्षा साल में एक बार करने पर होगा विचार, नई शिक्षा नीति पर हुई बैठक

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें