PM मोदी ने तीन तलाक को किया खत्म, आज महिलाएं समाज का कर रहीं नेतृत्व: CM योगी

Prachi Tandon, Last updated: Mon, 6th Sep 2021, 6:47 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को महिला मोर्चा कार्यसमिति की बैठक में कहा कि पीएम मोदी ने तीन तलाक को खत्म किया है. महिलाएं समाज का नेतृत्व कर रही हैं. आज महिलाएं किसी से कम नहीं हैं. 
भाजपा महिला मोर्चा कार्यसमिति बैठक में सीएम योगी बोले- पीएम मोदी ने तीन तलाक कुप्रथा को खत्म किया.

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा महिला मोर्चा कार्यसमिति बैठक के समापन सत्र में संबोधित करते हुए कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन तलाक की कुप्रथा को खत्म किया है. भारतीय नारी तीन तलाक की कुप्रथा के कारण सैंकड़ों वर्षों से तड़प रही थी. इसी के साथ सीएम योगी ने कहा कि आज महिलाएं समाज का नेतृत्व कर रही हैं. महिलाएं किसी से कम नहीं हैं. योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को महिला मोर्चा कार्यसमिति की बैठक में कहा कि आधी आबादी का प्रतिनिधित्व कैसे हो इसका आदर्श महिला मोर्चा को बनना चाहिए.

सीएम योगी ने महिला मोर्चा कार्यसमिति की बैठक में कहा कि आपके पास आधी आबादी के प्रतिनिधित्व की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है. सीएम योगी ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार राजनीति के एजेंडे की धुरी बदलने का काम किसी ने किया है तो वह पीएम मोदी ने किया है. पीएम मोदी के नेतृत्व में जो काम देश में हो रहे हैं वह नए भारत की तस्वीर को प्रस्तुत करते हैं. नए भारत की तस्वीर में महिला पीछे नहीं बल्कि समाज का नेतृत्व करने वाली होगी. सीएम योगी ने कहा पहली बार सुप्रीम कोर्ट में तीन महिला जजों की नियुक्ति हुई है. साथ ही सबसे ज्यादा महिला राज्यपाल भी पीएम मोदी के कार्यकाल में हुई हैं. 

ऑनलाइन क्लास नहीं ले पा रहे स्टूडेंट्स के लिए सीएम योगी की अपील, खुले गुरुकुल जैसे ओपन स्कूल

सीएम योगी ने तीन तलाक के मुद्दे पर कहा इस कुप्रथा के कारण सैंकड़ों साल महिलाएं अत्याचार सहती रहीं, इस कुप्रथा से महिलाओं को मुक्त कराने का काम पीएम मोदी ने किया है. इसके बाद हमारा दायित्व बनता है कि उन सभी बहनों को साथ जोड़ा जाए जो कुप्रथा के कारण पीड़ित रही हैं. सीएम योगी ने बोला कि यूपी में महिलाओं के हित में कई कार्यक्रम शुरू किए गए हैं जिसमें महिला सुरक्षा, महिला सम्मान और महिला स्वावलंबन को प्रमुखता दी गई है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें