योगी सरकार इन छात्रों को देगी चीनी मिलों में नौकरी, जानें पूरी डिटेल्स

Smart News Team, Last updated: Sun, 7th Feb 2021, 12:21 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल से सहकारी चीनी मिलों की स्थिति सुधारने और उन्हें घाटे से बाहर लाने के लिए प्रदेश के युवा जोश को शामिल करने की तैयारी है.युवाओं को सरकार संविदा पर नौकरी देने जा रही है. अगर वे अपने कौशल को को साबित करते हैं तो उन्हें फैक्ट्री मैनेजर भी बनाया जा सकता है.
यूपी में B.Sc. M.Sc. के छात्रों को मिलेगी चीनी मिल में नौकरी.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल से सहकारी चीनी मिलों की स्थिति सुधारने और उन्हें घाटे से बाहर लाने के लिए प्रदेश के युवा जोश को शामिल करने की तैयारी है. इसके लिए ऐसे युवाओं को चुना जाना है, जिनको बेशक कोई अनुभव नहीं है लेकिन काम के प्रति काबिलियत, हुनर और नई जोश है, तो ऐसे युवाओं को सरकार संविदा पर नौकरी देने जा रही है. अगर वे अपने कौशल को साबित करते हैं तो उन्हें फैक्ट्री मैनेजर भी बनाया जा सकता है.

उप्र राज्य चीनी निगम ने बेरोजगारों को मुख्य धारा से जोड़ने की अनूठी पहल की है. तकनीकी रूप से फ्रेशर युवाओं को अधिकारी व कर्मचारी स्तर तक संविदा पर तैनात किया जाएगा. ऐसा पहली बार हो रहा है कि, अभियंत्रण, लेखा, शर्करा तकनीक आदि से संबंधित पदों पर बिना किसी अनुभव के मैनेजमेंट प्रशिक्षु को ज्वाइन कर जायेगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अनुमोदन के बाद गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने पारदर्शिता के साथ इस प्रक्रिया को शुरू कराने की हरी झंडी दे दी है. बीएससी व एमएससी (कृषि) वाले युवक युवतियों को कैंपस सलेक्शन से ही सौगात देने की तैयारी है.  

UP के इन शहरों में घर बैठे वाहनों पर लगवा सकते है हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट, जानिए कैसे

यूपी में तीन चीनी मिलों मुंडरेवा (बस्ती), पिपराइच (गोरखपुर) और मोहिउददीनपुर (मेरठ) से सरकार के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट की शुरूआत की जा रही है. मुख्य सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना निगम लिमिटेड के मुताबिक डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट यूपी शुगर कॉरपोरेशन डॉट कॉम WWW.UPSUGARCORPORATION.COM पर ब्योरा दे दिया गया है.  

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले नीतीश की जेडीयू पंचायत इलेक्शन में आजमाएगी किस्मत

शुरूआती दौर में 51 पदों पर यह प्रक्रिया हो रही है. इसमें प्रधान प्रबंधक, मुख्य अभियंता, मुख्य रसायनज्ञ, मुख्य लेखाकार, मुख्य गन्ना प्रबंधक, उप मुख्य रसायनज्ञ, सहायक अभियंता, निर्माण रसायनज्ञ, गन्ना प्रबंधक, प्रशासनिक अधिकारी व क्वालिटी कंट्रोलर मैनेजर के पद पर तकनीकी दक्ष व उच्च व्यवसायिक दृष्टिकोण रखने वाले परिणामपरक कर्मियों को रखा जाएगा. 

UP के इन शहरों के मास्टर प्लान में होगा बदलाव, हवाई अड्डा और सैन्य क्षेत्र होंगे शामिल

रुहेलखंड में छह सहकारी चीनी मिले हैं. ये सब सरकार के स्वामित्व में है. यहां अनुभवहीन नौजवान युवक युवतियों को खुद को साबित करने का पूरा मौका मिलेगा. पीलीभीत में तीन सहकारी चीनी मिले हैं. इनमें एक पूरनपुर एक बीसलपुर में है. एक मझोला की चीनी मिल बंद पड़ी है. पूरनपुर और बीसलपुर चीनी मिले खुद को घाटे में रहती है. जिला गन्ना अधिकारी जितेंद्र मिश्रा ने बताया कि नौजवानों के आने से सहकारी चीनी मिलों को नया विजन मिलेगा और यह सरकार की शानदार पहल है. रुहेलखंड में भी सर्वे किया जा रहा है कि हम कहां बेहतर कर सकते हैं. 

यूपी: IAS, IPS फ्री कोचिंग के लिए 10 फरवरी से रजिस्ट्रेशन, ऐसे करें अप्लाई 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें