CM योगी से मिले पद्मश्री पुरस्कृत किसान रामशरण वर्मा, अनोखी खेती से शानदार कमाई

Smart News Team, Last updated: 23/09/2020 04:19 PM IST
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास लखनऊ स्थित 5 कालीदास मार्ग पर पद्मश्री से सम्मानित रामशरण वर्मा से मुलाकात की. सीएम योगी आदित्यनाथ ने उन्हें मुलाकात कर केले का गुच्छा भेंट किया.
CM योगी ने की पद्मश्री से सम्मानित प्रगतिशील किसान रामशरण वर्मा से मुलाकात

लखनऊ. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास लखनऊ स्थित 5 कालीदास मार्ग पर पद्मश्री से सम्मानित रामशरण वर्मा से मुलाकात की. प्रगतिशील किसान रामसरन वर्मा बाराबंकी से हैं. सीएम योगी आदित्यनाथ ने उन्हें मुलाकात कर केले का गुच्छा भेंट किया. योगी आदित्यनाथ ने इस मुलाकात की जानकारी अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके दिया. सीएम योगी ने केले का गुच्छा भेंट करते हुए फोटो डाली और लिखा कि जनपद बाराबंकी निवासी पद्मश्री श्री रामसरन वर्मा जी की अभिनव सोच, नवाचारों से युक्त प्रयोग और जिजीविषा के साथ परिश्रम ने कृषि क्षेत्र में उन्नति का मार्ग दिखाया है.

बता दें कि यूपी में पहली बार दो किसानों को पद्मश्री मिला था. इनमें से ही एक हैं रामशरण शर्मा. दूसरे हैं बुलंदशहर के भारत भूषण त्यागी जिनको पद्मश्री मिला था. पद्मश्री से सम्मानित रामशरण शर्मा टमाटर, आलू, मटर और केला की खेती करते हैं.

फिल्मी सितारों से सजेगी इस बार ‘अयोध्या की रामलीला’, CM योगी ने दी मंजूरी

अखिलेश यादव का ड्रीम प्रोजेक्ट जेपी इंटरनेशनल सेंटर बिकेगा, LDA ने भेजा प्रस्ताव

90 के दशक में  सिर्फ 6 एकड़ में खेती शुरू करने वाले बाराबंकी जिले के दौलतपुर गांव के किसान रामशरण वर्मा आज 250 एकड़ में सहकारिता आधारित खेती करते हैं. मुख्य रूप से केला आलू और टमाटर का उत्पादन करने में नवाचार के इस्तेमाल से इन्होंने उदाहरण प्रस्तुत किया. इसी कारण इन्हें पद्मश्री के साथ-साथ 7 राष्ट्रीय पुरस्कार एवं 2 दर्जन से अधिक राज्य स्तरीय पुरस्कार से नवाजा जा चुका है.

CM योगी से राकेश टिकैत की नहीं बनी बात, 25 सितंबर किसान यूनियन चक्का जाम कर्फ्यू

इसके अलावा रामशरण वर्मा को यूपी में टिशू कल्चर केले की खेती का जनक कहा जाता है. रामसरन वर्मा की खेती की एक विशेषता यह भी है कि यह फसल चक्र के आधुनिक मॉडल अपनाकर 50% तक रासायनिक खाद की बचत कर लेते हैं और उसकी जगह पर हरि और गोबर की खाद का इस्तेमाल करते हैं. रामसरन वर्मा का दावा है कि उनकी खेती देखने और सीखने के लिए उनके पास अब तक 20 लाख से अधिक किसान आ चुके हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें