ट्वीट कर बताया UP के मुख्यमंत्री योगी के साथ हुई पहली शिष्टाचार मुलाकात- जितिन प्रसाद

Smart News Team, Last updated: Fri, 11th Jun 2021, 12:36 PM IST
  • जितिन प्रसाद ने गुरुवार रात यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. यह जानकारी उन्होंने खुद ट्विटर के माध्यम से दी. गुरुवार रात जितिन प्रसाद ने ट्वीट कर लिखा की भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद आज दिल्ली में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ शिष्टाचार मुलाकात हुई.
जितिन प्रसाद ने गुरुवार की रात यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की.( फाइल फोटो )

लखनऊ: दो दिन पहले ही कांग्रेस का साथ छोड़ बीजेपी में शामिल हुए जितिन प्रसाद ने गुरुवार रात यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. यह जानकारी उन्होंने खुद ट्विटर के माध्यम से दी. गुरुवार रात जितिन प्रसाद ने ट्वीट कर लिखा की भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद आज दिल्ली में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ शिष्टाचार मुलाकात हुई.

जिसके बाद दूसरे ट्वीट में उन्होंने योगी आदित्यनाथ के साथ मुलाकात की एक फोटो भी सांझा की. जिसके साथ लिखा की आज दिल्ली प्रवास के दौरान मेरे गृह प्रदेश के मुख्यमंत्री मा. योगी आदित्य नाथ जी से भाजपा परिवार में शामिल होने के बाद प्रथम शिष्टाचार मुलाकात हुई. बता दें कि योगी आदित्यनाथ गुरुवार दोपहर दिल्ली दौरे पर आए थे जिसके दौरान ही जितिन प्रसाद ने उनसे मुलाकात की. योगी की गृह मंत्री अमित शाह, पीएम मोदी, जेपी नड्डा से मुलाकात की खबर भी सामने आ रही है. जिस बीच यह चर्चा तेज हो रही है कि जितिन प्रसाद को सीएम योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट मंत्री बनाया जा सकता है. इसके बाद उन्हें विधानपरिषद के माध्यम से सदन में भेजा जा सकता है. हालांकि आधारिक तौर पर अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है.

बीजेपी में शामिल जितिन प्रसाद बन सकते है योगी कैबिनेट में मंत्री: सूत्र

बता दें कि बुधवार को बीजेपी ने कांग्रेस के नेता रहे जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल किया. यूपी के लिहाज से यह काफी अहम माना जा रहा है. बीजेपी ने यह भी कहा है कि जितिन प्रसाद का यूपी में अहम रोल रहेगा. मालूम हो कि जितिन प्रसाद ने गुरुवार को कहा था कि मैंने कांग्रेस किसी व्यक्ति के चलते या किसी पद के लिए नहीं छोड़ी. मेरे कांग्रेस छोड़ने का कारण यह था कि पार्टी और लोगों के बीच सम्पर्क टूट रहा है और यही कारण है कि उत्तर प्रदेश में इसका वोट प्रतिशत कम हो रहा है और पार्टी को फिर से पटरी पर लाने के लिए कोई योजना नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें