किसान संवाद में CM योगी बोले- पराली जलाने के आरोप में दर्ज मामले होंगे वापस

ABHINAV AZAD, Last updated: Thu, 26th Aug 2021, 5:10 PM IST
  • सीएम योगी ने अपने सरकारी आवास पर किसानों से संवाद करते हुए कहा कि फसल अवशेष जलाने के कारण किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस होंगे. जबकि इसके अलावा जुर्माना खत्म करने पर फैसला लिया जाएगा.
CM योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पराली जलाने के आरोप में किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस लिए जाएंगे

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पराली जलाने के आरोप में किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस लिए जाएंगे. दरअसल, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पराली जलाने के आरोप में किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने और जुर्माना खत्म करने पर सरकार विचार मंथन कर रही है. राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक, सीएम योगी ने अपने सरकारी आवास पर किसानों से संवाद करते हुए कहा कि फसल अवशेष जलाने के कारण किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस होंगे. जबकि इसके अलावा जुर्माना खत्म करने पर फैसला लिया जाएगा.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मुद्दे पर कहा कि सरकार विचार कर फैसला लेगी. बताते चलें कि खेतों में फसलों की पराली जलाने के आरोप में यूपी के हजारों किसानों पर मामला दर्ज किया गया था. साथ ही ऐसे किसानों पर जुर्माना लगाया गया था. सरकार के इस फैसले के बाद प्रदेश के किसान संगठनों ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी. जबकि बता दें कि हाल ही में केंद्र सरकार ने पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ मुकदमा करने के फैसले को वापस ले लिया है.

गन्ने के दाम नहीं बढ़ने पर भड़कीं प्रियंका गांधी, कहा- किसानों के साथ अन्याय क्यों

मुख्यमंत्री ने किसानों से संवाद के दौरान दावा किया कि किसानों के कल्याण एवं आय दोगुनी करने के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं पर काम किया जा रहा है. इस दौरान सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, मृदा स्वास्थ्य कार्ड, जन-धन योजना द्वारा किसानों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ते हुए धनराशि सीधे उनके बैंक खातों में ट्रांसफर की जा रही है. सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाते हुए खाद्यान्न की रिकॉर्ड खरीद की है. इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने दावा किया कि सरकार द्वारा किसानों से सीधे खाद्यान्न की खरीद की गई है तथा खरीद का भुगतान सीधे उनके खातों में किया गया है. सीएम ने कहा कि गन्ने के भुगतान के लिए बेहतर रणनीति बनाकर कार्य करते हुए एक लाख 42 हजार करोड़ रुपए का भुगतान कराया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें