UP में साढ़े चार साल में एक भी दंगा नहीं हुआ, अब पर्व-त्योहार खुशी से मनाए जा रहे: CM योगी

Prachi Tandon, Last updated: Sun, 17th Oct 2021, 12:55 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को पिछड़ा वर्ग मोर्चा के सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को संबोधित किया. सीएम योगी ने सम्मेलन में कहा यूपी में साढ़े चार साल में एक भी दंगा नहीं हुआ.
CM योगी ने रविवार को पिछड़ा वर्ग मोर्चा के सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को संबोधित किया.(फाइल फोटो) 

लखनऊ. उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को पिछड़ा वर्ग मोर्चा सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि यूपी में पिछले साढ़े चार सालों में एक भी दंगा नहीं हुआ है. सीएम योगी ने इसी के साथ कहा कि दंगाइयों को पहले दिन से ही संदेश दे दिया था कि अगर दंगा करोगे तो अगली सात पीढ़ियों का पट्टा लिखकर कर जाना जो भरपाई करते रहेंगे. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अब प्रदेश में दंगा नहीं हो सकता है. सीएम योगी ने सम्मेलन में इसी के साथ कहा कि जो मूर्ति बनाते थे, उसकी मूर्ति नहीं बिकती थी. जो दिये बनाते थे उसके दिये तोड़ दिए जाते थे लेकिन अब प्रदेश में पर्व-त्योहार खुशी से मनाए जा रहे हैं.

पिछड़ा वर्ग मोर्चा के सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोयला संकट के बीच 22 रुपए यूनिट बिजली की खरीद की गई लेकिन राज्य में पर्व को फीका नहीं होने दिया गया. सीएम ने कहा आगे के त्योहारों को भी फीका नहीं होने देंगे. सभी के घरों में रोशनी देते रहेंगे. सीएम ने पिछली सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले की सरकारों में चार जिलों में बिजली दी जाती थी. पर्व और त्योहारों के समय दंगे होते थे और फिर कर्फ्यू लगा दिए जाते थे. लोगों का काम-कारोबार प्रभावित होता था. 

लखीमपुर खीरी हिंसा: अखिलेश यादव पर FIR दर्ज, धारा 144 उल्लंघन, सरकारी कार्य में बाधा डालने का आरोप

सीएम योगी ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि हमने साढ़े चार साल में एक भी दंगा नहीं होने दिया. दंगा करने वालों को यह समझा दिया गया कि दंगा करोगे तो सात पीढ़ियां भरपाई करेंगी. सीएम योगी ने इसी के साथ कहा कि इसबार दीपावली पर अयोध्या में 9 लाख मिट्टी के दिये जलाए जाएंगे. इसी के साथ सीएम योगी ने सभी से अपील करते हुए मिट्टी के दिये जलाने के लिए कहा. सीएम योगी ने कहा कि मिट्टी के दिये में लक्ष्मी का वास होता है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें