सीएम योगी का निर्देश, प्राइवेट लैब आरटीपीसीआर जांच की ज्यादा फीस न लें

Smart News Team, Last updated: Wed, 23rd Dec 2020, 4:18 PM IST
  • सीएम योगी ने कहा है कि प्रदेश में प्राइवेट लैब में आरटीपीसीआर की जांच के लिए 700 रुपये प्रति जांच से अधिक फीस न ली जाए.
(तस्वीर: सीएम योगी आदित्यनाथ)

लखनऊ: प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश देते हुए कहा है कि प्राईवेट लैब में आरटीपीसीआर की जांच किसी भी दशा में 700 रुपए प्रति जांच से अधिक फीस न ली जाए. मंगलवार को लोकभवन में अनलॉक की समीक्षा बैठक के दौरान सीएम योगी ने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रदेश में प्राइवेट लैब आरटीपीसीआर की जांच के लिए 700 रुपये प्रति जांच से अधिक फीस न लें. अगर किसी व्यक्ति का सैम्पल घर से लिया जाता है, तो 900 रुपये जांच शुल्क ही लिया जाए. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इस व्यवस्था का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए.

सीएम योगी ने राज्य में कोविड-19 की 95.68 प्रतिशत रिकवरी दर पर संतोष व्यक्त करते हुए इसे और बेहतर करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि प्रदेश सरकार लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए प्रतिबद्ध है. इसलिए इस दिशा में सभी प्रयास निरन्तर जारी रखें जाए. कोविड अस्पतालों में औषधियों, मेडिकल उपकरण तथा ऑक्सीजन की बैकअप सहित सुचारू उपलब्धता की जाए. कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखा जाए.

स्थानीय स्तर पर भी बनाए जाएं परीक्षा केंद्र- सीएम योगी

उन्होंने कहा कि ई- संजीवनी एप का व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए, ताकि अधिक से अधिक लोग इसके माध्यम से ऑनलाइन चिकित्सीय परामर्श का लाभ प्राप्त कर सकें. प्रदेश में ई-संजीवनी एप का उपयोग करने वालों की संख्या तीन लाख हो गई है.

लखनऊ के 60 प्रतिशत प्री-स्कूल बंद होने की कगार पर

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें