कोयले की कमी से यूपी में बिजली संकट, आपूर्ति को 10 करोड़ की अतिरिक्त बिजली खरीदी

Somya Sri, Last updated: Wed, 13th Oct 2021, 4:16 PM IST
  • यूपी में कोयले की कमी के कारण बिजली संकट गहराता जा रहा है. कटौती को दूर करने के लिए उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड को लगातार तीसरी दिन अतिरिक्त बिजली खरीदनी पड़ी है. कॉरपोरेशन ने आज 10.88 करोड़ की अतिरिक्त बिजली खरीदी. तो वहीं शनिवार को 2 करोड़ और रविवार की रात को 8.70 लाख रूपए की अतिरिक्त बिजली खरीदी गई थी.
कोयले की कमी से यूपी में गहराया बिजली संकट, राज्य ने आपूर्ति की 10.88 करोड़ की अतिरिक्त बिजली (प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ: देश के कई राज्यों में कोयले की कमी के कारण बिजली संकट गहराता जा रहा है. उत्तर प्रदेश में भी कोयले के संकट में बिजली उत्पादन बुरी तरह से प्रभावित हुई है. इस बीच कटौती को दूर करने के लिए उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड को लगातार तीसरी दिन अतिरिक्त बिजली खरीदनी पड़ी है. कॉरपोरेशन ने आज 10.88 करोड़ की अतिरिक्त बिजली खरीदी. तो वहीं शनिवार को 2 करोड़ और रविवार की रात को 8.70 लाख रूपए की अतिरिक्त बिजली खरीदी गई थी. बताया जा रहा है कि बिजली की आपूर्ति राज्य के ग्रामीण, तहसील और बुंदेलखंड जैसे क्षेत्रों में निर्धारित समय से दो घन्टें तक अधिक बिजली मिलने की खबर है.

कैसे गहराया कोयला संकट?

जानकारी के मुताबिक कोल इंडिया द्वारा किए जाने वाले कोयले के उत्पादन में काफी गिरावट आई है, क्योंकि ईस्टर्न कोलफील्ड (सिंगरौली, झारखंड और बिहार) और सेंट्रल कोलफील्ड (मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़) में सितंबर के अंत में बहुत अधिक बारिश होने के कारण कोयला खदानों में पानी भर गया है. इस कारण कोयले की किल्लत का सामना करना पड़ा रहा है.

Lakhimpur Kheri Violence: कांग्रेस नेता अंकित दास के घर चस्पा नोटिस, नेता ने किया सरेंडर

यूपी सीएम ने लिखा था पत्र

मालूम हो कि यूपी में कोयले की कमी से पावर प्लांट्स में बिजली का प्रोडक्शन लगातार कम हो रहा है. उत्तर प्रदेश विद्युत उत्पादन निगम, स्वतंत्र निजी उत्पादक और एनटीपीसी के पावर प्लांट से बिजली उत्पादन में 7478 मेगावाट की कमी आई है. इस मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राज्य में कोयले की आपूर्ति सामान्य कराने और प्रदेश को अतिरिक्त बिजली उपलब्ध कराने का आग्रह किया था. इधर कोयले की आपूर्ति को सुधारने के लिए एनटीपीसी और कोल इंडिया लिमिटेड के अधिकारी भी प्रयास कर रहे हैं.

लखनऊ: बेटियों के लिए सुरक्षित नहीं राजधानी, नानी घर गई दो बच्चियों के साथ हुई दरिंदगी

कारपोरेशन प्रबंधन के चेयरमैन ने क्या कहा?

वहीं पावर कारपोरेशन प्रबंधन के चेयरमैन एम. देवराज ने सभी वितरण कंपनियों को निर्देश जारी कर दिया है कि, "रात में शहर से लेकर गांव तक कहीं भी बिजली ना काटी जाए. यदि किसी तकनीकी दिक्कत से बिजली काटनी पड़ रही है तो उसका पूरा विवरण कारपोरेशन को दिया जाए." कारपोरेशन के चेयरमैन एम. देवराज का कहना है कि , "11 अक्तूबर को राज्य में बिजली की आपूर्ति बहुत बेहतर रही. अधिकतम मांग के सापेक्ष बिजली की आपूर्ति की गई. सोमवार को राज्य में कहीं भी बिजली कटौती नहीं की गई. जिला मुख्यालयों और महानगरों को तय शिड्यूल के मुताबिक बिजली देने के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक बिजली दी गई."

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें