KGMU फिर उठे शिक्षक भर्ती को लेकर सवाल, जांच के लिए कमेटी बनी

Smart News Team, Last updated: Tue, 9th Mar 2021, 10:43 PM IST
  • केजीएमयू में शिक्षक भर्ती मामले की जांच के लिए कमेटी का गठन किया गया. इसके साथ ही जांच भी शुरू कर दिया गया है. वही शासन ने इसकी जांच के लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन को तलब भी किया है.
KGMU फिर उठे शिक्षक भर्ती को लेकर सवाल, जांच के लिए कमेटी बनी

लखनऊ. लखनऊ के केजीएमयू में एक बार फिर शिक्षकों के भर्ती पर सवाल खड़ा हो गया है. वही इस बार प्लास्टिक सर्जरी विभाग में शिक्षकों की भर्ती को लेकर है. जिसमे सभी मानकों को तक पर रख कर इन शिक्षकों की भर्ती की गई. वही यह भी आरोप लगाया गया है कि प्राइवेट मेडिकल कॉलेज से डिग्री व डीएनबी कोर्स करने वाले अभ्यर्थियों का चयन कर लिया गया है. वही चिकित्सा विज्ञान की सबसे बड़ी डिग्री एमसीएच धारकों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.

इतना ही नहीं केजीएमयू के एक और विभाग में शिक्षकों की भर्ती को लेकर सवाल उठाए गए है. प्लास्टिक सर्जरी विभाग की तरह ही रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में भी शिक्षक भर्ती को लेकर लापरवाही उठाई गई है. जिसको लेकर सवाल उठाए गए है. वही केजीएमयू प्रशासन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के शिकायत के बाद कमेटी का गठन किया है. जो इस पूरे मामले की जांच करेगी. वही शासन ने किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी से इस मामले की जांच कर जल्द से जल्द सौपने के लिए भी कहा है. 

योगी सरकार अवैध कॉलोनी बनाने वाले बिल्डरों पर कसेगी शिकंजा, कार्रवाई के निर्देश

आपको बता दे कि केजीएमयू में शिक्षकों की कमी होने के कारण कई सुपर स्पेशियलिटी सेवाए चरमरा गई है. जिसको देखते हुए यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अधिकतर विभागों में शिक्षकों की भर्ती की है. वही इसे भरने के लिए शासन ने भी भर्ती के लिए अनुमति दी थी, लेकिन कुछ विभागों में शिक्षकों की भर्ती मानकों ताक पर रखकर कर दिया गया. जिसे लेकर अभ्यर्थी सवाल उठा रहे है. वही अभ्यर्थियों का कहना है कि चयनित हुए अभ्यर्थियों का मानक उनसे कम है फिर भी उनका चयन किया गया है.

होली पर जमकर छलकेंगे जाम, यूपी में चार गुना ज्यादा बिक सकती है शराब

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें