साल भर में बैंक से जुड़ी शिकायतें लाखों से उपर, ग्राहक ATM से सबसे ज्यादा दुखी

Smart News Team, Last updated: Wed, 15th Dec 2021, 9:14 AM IST
  • बैंक के खिलाफ ग्राहकों की शिकायतों में इजाफा हुआ है. आरबीआई को साल 2018-19 से अब तक 10.39 लाख शिकायतें मिली हैं. इनमें सबसे ज्यादा शिकायतें एटीएम जुड़ी है. 20 फीसदी शिकायतें एटीएम से जुड़ी हुई होती है. रिपोर्ट की माने तो अब तक रिजर्व बैंक को एटीएम और डेबिट कार्ड से जुड़ी 1.90 लाख शिकायतें मिली हैं. यह शिकायतों का सिलसिला साल दर साल बढ़ रहा है.
बैंकों नहीं सुन रहा! 2018 से अबतक मिलीं 10 लाख से अधिक शिकायतें, देखिए आंकड़े

लखनऊ. बैंक से जुड़ी शिकायतें लगातार सामने आती रहती है. जिसके चलते बैंक के खिलाफ ग्राहकों की शिकायतों में इजाफा हुआ है. आरबीआई को साल 2018-19 से अब तक 10.39 लाख शिकायतें मिली हैं. इनमें सबसे ज्यादा शिकायतें एटीएम जुड़ी है. 20 फीसदी शिकायतें एटीएम से जुड़ी हुई होती है. रिपोर्ट की माने तो अब तक रिजर्व बैंक को एटीएम और डेबिट कार्ड से जुड़ी 1.90 लाख शिकायतें मिली हैं. यह शिकायतों का सिलसिला साल दर साल बढ़ रहा है. 2018 से 2021 तक शिकायतों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है.

वहीं रिजर्व बैंक का दावा है कि वर्ष 2018-19 से लेकर 2020-21 के दौरान आई सभी शिकायतों का निपटारा कर दिया है. वहीं, इस वर्ष नवंबर तक आई करीब दो लाख शिकायतों में से भी 1.76 लाख का निपटारा हो गया है. आंकड़ों के मुताबिक, करीब 70 फीसदी शिकायतों का समाधान आपसी समझौते से हो जाता है.

 

डीजल की महंगाई से बिहार में सफर महंगा, बस किराया 20 फीसदी तक बढ़ा

 

शिकायतों का आंकड़ा

2018- 2019 में एटीएम व डेबिट कार्ड से जुड़ी 29603 शिकायतें सामने आई. 39188 लोगों ने नियमों का उल्लंघन किया. 12051 लोगों को मोबाइल व नेट बैंकिंग की समस्या से गुजरना पड़ा. जबकि बिना जानकारी के पैसा काट देना वाले लोगों में 7518 लोग शामिल है.

2019-2020 में एटीएम व डेबिट कार्ड से जुड़ी 69205 शिकायतें सामने आई. 40124 लोगों ने नियमों का उल्लंघन किया. 39627 लोगों को मोबाइल व नेट बैंकिंग की समस्या से गुजरना पड़ा. जबकि बिना जानकारी के पैसा काट देना वाले लोगों में 17268 लोग शामिल है.

2020-2021 में एटीएम व डेबिट कार्ड से जुड़ी 60203 शिकायतें सामने आई. 33898 लोगों ने नियमों का उल्लंघन किया. 44385 लोगों को मोबाइल व नेट बैंकिंग की समस्या से गुजरना पड़ा. जबकि बिना जानकारी के पैसा काट देना वाले लोगों में 20949 लोग शामिल है.

आंकड़ों में देखा जा सकता है कि शिकायतों के सिलसिले का आंकड़ा लगातार बढ़ता गया है. 2019-2020 में ए़टीएम व डेबिटकार्ड की शिकायत पिछले साल के मुकाबले 50 फीसदी ज्यादा है.

आरबीआई की नई योजना

बता दें कि बढ़ती शिकायतों को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने ग्राहकों के लिए खास योजना शुरू की है. आरबीआई ने ग्राहकों की सुविधा के लिए इंटीग्रेटेड लोकपाल योजना की शुरुआत की है. ‘एक देश-एक लोकपाल’ जैसे इस सिस्टम है का उद्देश्य ग्राहकों की तरफ से नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनीज और पेमेंट सर्विस ऑपरेटर्स के खिलाफ आने वाले कंप्लेन पर क्विक एक्शन लेना है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें