प्रियंका ने महिला वोट पर साधा दांव, अब आशा बहनों को लेकर कर दी बड़ी घोषणा

Smart News Team, Last updated: Fri, 12th Nov 2021, 11:09 AM IST
  • प्रियंका गांधी ने आशा बहनों को लेकर बड़ी घोषणा की है. कांग्रेस महासचिव ने कहा कि सरकार बनी तो हर महीने आशा बहनों को 10 हजार रुपये मानदेय दिया जाएगा.
महिलाओं के वोट को साधने के लिए कांग्रेस ने कई बड़े ऐलान कर चुकी है. वहीं अब आशा बहनों को लेकर बड़ी घोषणा की है.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अपनी साख बचाने में जुट गई है. कांग्रेस की पूरी उम्मीद अपनी महासचिव प्रियंका गांधी पर टिकी है. पार्टी को लगता है कि प्रियंका उत्तर प्रदेश में वोट प्रतिशत बढ़ाने जा रही हैं और इसे छह से 30 फीसदी तक ले जाने का उनका लक्ष्य है. इसी कड़ी में प्रियंका गांधी की नजर अब महिला वोट पर है. महिलाओं के वोट को साधने के लिए कांग्रेस ने कई बड़े ऐलान कर चुकी है. वहीं अब आशा बहनों को लेकर बड़ी घोषणा की है. प्रियंका गांधी ने कहा कि सरकार बनी तो हर महीने आशा बहनों को 10 हजार रुपये मानदेय दिया जाएगा.

बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी विधानसभा चुनाव में महिलाओं को 40 फीसदी टिकट और छात्राओं को स्कूटी और स्मार्टफोन देने का दांव चल चुकी है. दरअसल राजधानी लखनऊ के दौरे पर पहुंची प्रियंका गांधी ने अपने आवास पर शाहजहांपुर में पुलिस पिटाई का शिकार हुईं आशा बहनों से मुलाकात कीऔर उनका दुख-दर्द जाना. बल्कि इस दौरान पीड़ित आशा बहनों को हर संभव कानूनी मदद का आश्वासन देते हुए UP में कांग्रेस की सरकार बनने पर आशा बहनों एवं आंगनबाड़ी कर्मियों को 10 हजार रुपये प्रतिमाह का मानदेय भी दिए जाने का ऐलान किया.

अखिलेश के बयान पर बोले ओवैसी, मुसलमानों ने नहीं जिन्ना ने करवाया भारत का बंटवारा

प्रियंका गांधी वाद्रा ने उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में आशा कर्मियों के खिलाफ पुलिस द्वारा कथित तौर पर बल प्रयोग करने के मामले को लेकर बुधवार को राज्य की भारतीय जनता पार्टी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि वह आशा बहनों की लड़ाई में उनके साथ खड़ी हैं. उन्होंने इस कथित घटना एक वीडियो साझा करते हुए ट्वीट भी किया. उन्होंने लिखा कि ‘उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आशा बहनों पर किया गया एक-एक वार उनके द्वारा किए गए कार्यों का अपमान है. मेरी आशा बहनों ने कोरोना में और अन्य मौकों पर पूरी लगन से अपनी सेवाएं दीं. मानदेय उनका हक है. उनकी बात सुनना सरकार का कर्तव्य है.'

भीख में मिली आजादी, जा अब और रो, अब कंगना रनौत ने वरुण गांधी से की बदतमीजी

गौरतलब है कि,आशा बहनों को 2018 से अपना बकाया नहीं मिला है. जिसकी मांग को लेकर वे दो दिन पहले शाहजहांपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने जा रही थीं, लेकिन पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोककर उनकी बुरी तरह से पिटाई कर दी. जिससे किसी का हाथ टूट गया, तो कोई गंभीर रूप से घायल हो गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें