महिला सुरक्षा पर प्रियंका ने कहा- UP सरकार ने झूठे प्रचार में करोड़ो खर्च किए

Smart News Team, Last updated: Wed, 13th Jan 2021, 11:12 AM IST
  • कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मिशन शक्ति अभियान के नाम पर झूठे प्रचार में करोड़ों रुपए खर्च किए गए. वहीं जमीनी स्तर पर सिस्टम का रवैया महिलाओं की सुरक्षा को लेकर उपेक्षित है.
महिला सुरक्षा को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार पर निशाना साधा.

लखनऊ. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने फेसबुक पर पोस्ट करके यूपी सरकार पर निशाना साधा है. प्रियंका गांधी ने अपने सोशल मीडिया लिखा कि सीएम के गृहक्षेत्र गोरखपुर से आई महिला अपराध की खबर से अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिस सिस्टम ने कुछ दिन पहले ही महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चलाए मिशन शक्ति अभियान के नाम पर झूठे प्रचार में करोड़ों रुपए खर्च किए उस सिस्टम का जमीनी स्तर पर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर क्या रवैया है.

प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा कि गोरखपुर में पिछले दिनों में 12 से ज्यादा लड़कियों की मौत के मामले सामने आए हैं. वहीं इन अपराधों में सजा दिलाना तो दूर पुलिस मृत लड़कियों की पहचान तक नहीं कर पाई है. 

GST रिटर्न दाखिल करना पहले से आसान करेगी योगी सरकार

प्रियंका गांधी ने प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों पर योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछले दिनों ऐसे मामले सामने आए हैं जिसमें प्रशासन ने पीड़ित की बात नहीं सुनी या पीड़ित के साथ ही बदतमीजी की गई. कांग्रेस महासचिव ने कहा कि सरकार महिला सुरक्षा के नाम पर करोड़ो रुपए का विज्ञापन देती है और जब कोई पीड़िता अपनी शिकायत लेकर उसी सरकार के सामने शिकायत लेकर जाती है तो उसपर भद्दी टिप्पणियां की जाती हैं. 

शादी का झांसा देकर महिला कर्मचारी से किया रेप, पुलिस ने दबोचा

महिला सुरक्षा को लेकर हाथरस, उन्नाव और बदायूं जैसी घटनाओं ने पूरे देश के सामने यूपी सरकार के रवैये को सामने लाकर रख दिया है. कांग्रेस महासचिव ने कहा कि महिला सुरक्षा में बेसिक समझ है कि महिला की आवाज सर्वप्रथम है. वहीं यूपी सरकार ने कई बार इसके उलट काम किए हैं. यहां स्पष्ट होता है कि उनके लिए बेटी बचाओ और मिशन शक्ति सिर्फ खोखले नारे हैं.  

मां के साहस को सलाम, रिक्शा चलाकर बेटे को बना दिया स्टार हॉकी खिलाड़ी

यूपी सरकार को महिलाओं की आवाज औऱ उनकी आपबीती को लेकर महिलाओं के प्रति अपना रवैया बदलना होगा और उनके प्रति संवेदनशीलता दिखानी होगी. वहीं जब पीड़िता या उसका परिवार न्याय की मांग करे तो सत्ताधारी दल उनपर भद्दी टिप्पणिया करने लगें तो इससे घृणित कुछ नहीं है.

महिला सुरक्षा को लेकर प्राथमिक शर्त है कि महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों को सामने लाना होगा. वहीं महिलाओं की आवाज को आदर से सुनना होगा. 

किसानों को लाभ देने में असफल BJP, बर्बादी का जश्न मना रही है मोदी सरकार: अखिलेश 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें