उन्नाव मामले में प्रियंका गांधी ने कहा- पीड़ित परिवार को नजरबंद करना न्याय के कार्य में बाधा डालना

Smart News Team, Last updated: Thu, 18th Feb 2021, 2:38 PM IST
  • कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने उन्नाव मामलें पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है, कि मामले में पीड़ित परिवार को नजरबंद किया है जो न्याय के काम में बाधा डालने का कार्य है.
कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने उन्नाव मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ: यूपी के उन्नाव में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आयी है. जिले के असोहा थाना क्षेत्र गांव में मवेशियों के लिए चारा लेने गए तीन किशोरियों के खेत में पायी गई. गांव वालों ने तीनों लड़कियों को निजी अस्पताल में भर्ती कराया. जहां इलाज के दौरान दो लड़कियों ने दम तोड़ दिया. घटना पर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा है. उन्होंने कहा, कि मामले में पीड़ित परिवार को नजरबंद किया है जो न्याय के काम में बाधा डालने का कार्य है.

अपने फेसबुक पोस्ट में प्रियंका गांधी ने लिखा "उन्नाव की घटना दिल दहला देने वाली है. लड़कियों के परिवार की बात सुनना एवं तीसरी बच्ची को तुरंत अच्छा इलाज मिलना जांच-पड़ताल एवं न्याय की प्रक्रिया के लिए बेहद जरूरी है. खबरों के अनुसार पीड़ित परिवार को नजरबंद कर दिया गया है. यह न्याय के कार्य में बाधा डालने वाला काम है. आखिर परिवार को नजरबंद करके सरकार को क्या हासिल होगा. यूपी सरकार से निवेदन है कि परिवार की पूरी बात सुने एवं त्वरित प्रभाव से तीसरी बच्ची को इलाज के लिए दिल्ली शिफ्ट किया जाए."

अखिलेश यादव ने साधा निशाना, कहा- किसान आंदोलन के साथ खड़े जन-समर्थन के प्रतीकों से डर रही सरकार

क्या है मामला

असोहा थाना के गांव में बुधवार को तीन किशोरिया मवेशियों के लिए खेत में चारा लेने गई थी. शाम को घर नहीं लोटने पर गांव वालों ने किशोरियों की तलाश की. तीनो गांव के एक खेत में बेहोशी की हालत में मिली. लोगों के सभी को पास के अस्पताल में भर्ती कराया. जहां डॉक्टरों ने दो लड़कियों को मृत घोषित कर दिया. पुलिस ने दोनो शवों को पोस्टमार्डट में लिए भेज दिया है. जबकि तीसरी लड़की की हालत नाजुक बनी हुई है.

यूपी में रोजगार के नए अवसर, कनाडा खोलेगा कंपनियां

हाईकोर्ट ने मुख्तार अंसारी की गिरफ्तारी पर रोक लगाने वाली याचिका को किया खारिज

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें