प्रियंका गांधी ने लिखी फेसबुक पोस्ट, कहा- सरकार ने आंकड़ों को बनाया बाजीगरी का माध्यम

Smart News Team, Last updated: Mon, 7th Jun 2021, 11:50 AM IST
  • कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सरकार पर कोरोना आकड़े छुपाने का आरोप लगाया हैं. साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश की गंगा नदी में बहते शवों को लेकर भी सरकर को घेरने की कोशिस की है.
प्रियंका गांधी ने लिखी फेसबुक पोस्ट, कहा- सरकार छुपा रही कोरोना के आकड़े

लखनऊ. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने केंद्र सरकार के ऊपर कोरोना संक्रमण के आंकड़ों को छुपाने के आरोप लगाया हैं. साथ ही उसकी पारदर्शिता को लेकर भी सवाल किए हैं. उन्होंने केंद्र सरकार को घेरते हुए सोमवार को एक फेसबुक पोस्ट किया हैं. जिसमें उन्हीने कोरोना आंकड़ो को लेकर सरकार के ऊपर आरोप लगाया हैं. 

प्रियंका गांधी ने अपनी फसेबूक पोस्ट में लिखा कि कोरोना माहमारी में लोगों ने सरकार से आंकड़ो की पारदर्शिता की आवश्यकता स्पष्ठ की थी. ऐसा इसलिए जरूरी था क्योंकि आंकड़ो से ही पता चलता है कि बीमारी का फैलाव क्या है, संक्रमण ज्यादा कहां है, किन जगहों को सील करना चाहिए और कहां पर टेस्टिंग बढ़ानी चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि जागरूकता का साधन बनने के बजाय सरकार ने आंकड़ों को बाजीगरी का माध्यम बना डाला.

योगी सरकार का निर्देश, शराब माफियाओं पर हो सख्त कार्रवाई

इतना ही नहीं प्रियंका गांधी ने यूपी में गंगा किनारे मिले शवों को लेकर भी सवाल उठाए हैं. उन्होंने लिखा कि गंगा में मिले शव को किसी भी सरकारी रजिस्टर में जगह नहीं दी गई हैं. इतना ही नहीं प्रयागराज में गंगा किनारे दफनाए गए शवों के ऊपर से सफाई अभियान चलाकर उन पर पड़ी चादरों को हटा दिया गया. ताकि कब्रों के निशान मिटाए जा सके. 

साथ ही प्रियंका गांधी ने लखनऊ, वाराणसी, कानपुर, मेरठ में कोरोना मौतों को लेकर भी सरकार को घेरने की कोशिश की हैं. उन्होंने लिखा कि लखनऊ में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की श्मशान और कब्रिस्तान के आंकड़े 1375 है तो वहीं सरकार का आंकड़ा 316 है. इसी तरह वाराणसी में सरकारी आंकड़ा 73 तो कब्रिस्तान और श्मशान का आंकड़ा 413, कानपुर में सरकारी 260 तो श्मशान का 955, मेरठ में सरकारी 55 तो श्मशान का 265 आंकड़ा है. ये सभी 25 अप्रैल से लेकर 5 मई के बीच तक का है.

कोविड से शिक्षा पर पड़े असर को जानने के लिए सीबीएसई स्कूलों में करेगा सर्वे

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें