जय श्री राम का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, बल्कि राक्षस हैं- राशिद अल्वी

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 12th Nov 2021, 3:51 PM IST
  • कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जय श्री राम का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, बल्कि निशिचर हैं. साथ ही कहा कि पहले राशिद अल्वी ने कहा कि अब भी कुछ लोग उस राक्षस कि तरह ही भगवान श्रीराम का नाम जप रहे है.
जय श्री राम का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, बल्कि निशिचर हैं- राशिद अल्वी

लखनऊ. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रसीद अल्वी ने शुक्रवार को एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जय श्री राम का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, बल्कि निशिचर (राक्षस) हैं. रसीद अल्वी ने बीजेपी के नेताओं को निशाना बनाते हुए कहा है कि कुछ लोग जय श्रीराम का नारा लगाकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने रामायण का प्रसंग भी सुनाया. वहीं इससे पहले कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने भी बीजेपी नेताओं के ऊपर टिप्पणी कर दिया था.

राशिद अल्वी ने रामायण का प्रसंग सुनाते हुए कहा कि जब लक्षण को तीर लगेगा तो हनुमान को संजीवनी बूटी लाने के लिए भेजा गया था. जिन्हे रोकने के लिए रावण ने एक राक्षस को भेजा था. जो एक मुनि का वेश धारण करके श्रीराम के नाम का गुणगान करने लगा. जिसे सुनकर हनुमान जी वहां पर रुक गए. साथ ही राक्षस ने हनुमान जी को तालाब में स्नान करने के लिए कहा जहां पर एक मगर ने उनकी टांग को जकड़ लिया. जिससे हनुमान जी को पता चला कि साधु के भेष में राक्षस है.

SP को ओवैसी के साथ गठबंधन नहीं मंजूर, अखिलश बोले- कोई भी पार्टी चलेगी, लेकिन…

हनुमान जी को राक्षस का पता चलते ही उन्होंने उसका वध कर दिया. इसके साथ ही राशिद अल्वी ने कहा कि अब भी कुछ लोग उस राक्षस कि तरह ही भगवान श्रीराम का नाम जप रहे है. वहीं उन्होंने कहा कि भगवन श्रीराम का नाम बिना स्नान किए नहीं जाना चाहिए, लेकिन आज ऐसा नहीं है. कुछ लोग बिना स्नान किए ही श्रीराम का नाम ले रहे है. इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि जय श्री राम का नारा लगाने वाले मुनि नहीं, बल्कि निशिचर हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें