लखीमपुर खीरी में मृतक किसान के परिजनों को राहुल और प्रियंका ने गले लगाया, भावुक हुआ माहौल

SHOAIB RANA, Last updated: Thu, 7th Oct 2021, 12:03 AM IST
  • यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार से दिन भर चली रार के बाद लखीमपुर खीरी पहुंचे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने मृतक किसान लवप्रीत के परिजनों से मुलाकात की. इस दौरान दुखी परिजनों को दिलासा देते हुए राहुल और प्रियंका ने उन्हें गले लगा लिया. उस समय माहौल काफी भावुक हो गया. लवप्रीत के परिवार के बाद राहुल और प्रियंका ने हिंसा में मारे गए पत्रकार रमन कश्यप के घर पहुंचकर परिवार से मुलाकात की.
लखीमपुर खीरी में मृतक किसान लवप्रीत के परिजनों से मुलाकात करते हुए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार से काफी जद्दोजहद के बाद आखिरकार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी बहन और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के साथ यूपी के लखीमपुर पहुंचे. जहां दोनों ने बवाल में मारे गए किसान लवप्रीत के परिवार से मुलाकात की. किसान लवप्रीत के दुखी परिजनों को दिलासा देने के लिए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने उन्हें अपने गले लगा लिया. इस दौरान माहौल काफी भावुक हो गया. मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा, ये सत्ताग्रह चलता रहेगा. लवप्रीत का बलिदान नहीं भूलेंगे. किसान लवप्रीत के परिवार के साथ करीब 20 मिनट बिताने के बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हिंसा में मारे गए पत्रकार रमन कश्यप के घर पहुंचे और उनके परिजनों से मुलाकात की.

गौरतलब है कि बुधवार को लखनऊ एयरपोर्ट पर राहुल गांधी के धरने, अधिकारियों से बहस और लंबी चली खींचतान के बाद योगी सरकार ने उन्हें सीतापुर जाने की अनुमति दी. इस दौरान छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला भी राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ रहे. सीतापुर में प्रियंका गांधी हाउस अरेस्ट थीं जिन्हें बुधवार को ही रिहा कर दिया गया था. सीतापुर पहुंचकर राहुल गांधी ने प्रियंका गांधी से मुलाकात की जिसके बाद दोनों कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के साथ लखीमपुर की ओर बढ़ गए.

लखीमपुर खीरी: मृतक किसानों को 50-50 लाख मुआवजा देगी कांग्रेस की छत्तीसगढ़ और पंजाब सरकार

मालूम हो कि रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में भाजपा का एक कार्यक्रम था जिसमें शामिल होने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा भी पहुंचे थे. इस दौरान काफी संख्या में किसान रास्ते में प्रदर्शन कर रहे थे. अचानक वहां से गुजर रहे बीजेपी नेताओं के काफिले की एक कार ने प्रदर्शनकारी किसानों को रौंद दिया. इस घटना में चार किसानों की मौत हो गई जिसके बाद वहां बवाल मच गया. इस बवाल में चार अन्य लोगों की भी मौत हो गई. किसानों को रौंदने वाली कार मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की बताई गई जिसके बाद मामले में सियासत भी तेज हो गई. 

राहुल गांधी, प्रियंका गांधी कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के साथ लखीमपुर खीरी पहुंचे

अगले दिन यानी सोमवार को कांग्रेस, सपा समेत कई विपक्षी दल और किसान नेता राकेश टिकैट ने योगी आदित्यनाथ सरकार पर जमकर हमला बोला. इसके बाद योगी आदित्यनाथ सरकार ने किसान समेत सभी मृतकों के परिजनों को 45-45 लाख मुआवजा और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया. किसान नेता राकेश टिकैट ने सरकार और किसान परिवारों के बीच यह समझौता कराया था. दूसरी ओर केंद्रीय मंत्री के बेटे समेत कई लोगों के खिलाफ केस भी दर्ज किया है. योगी सरकार का कहना है कि लखीमपुर खीरी का सच बाहर लाया जाएगा और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें