सहकारिता भर्ती घोटले में बड़ी कार्रवाई, SIT ने कई पदाधिकारियों पर किया केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: Tue, 25th May 2021, 2:36 PM IST
  • यूपी एसआईटी ने सहकारिता भर्ती घोटाले में बड़ी कार्रवाई करते हुए सेवा मंडल और संस्थाओं के कई पदाधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कराया है. सहकारिता विभाग में भर्तियों को लेकर यह बड़ा घोटाला सपा के शासन काल में हुआ था.
एसआईटी ने बड़ी कार्रवाई की है जिसमें सहकारिता भर्ती घोटाले में यूपीसीबी के एमडी भी नामजद हैं.

लखनऊ. सहकारिता भर्ती घोटाले में एसआईटी ने बड़ी कार्रवाई की है. सहकारिता सेवा मंडल और संस्थाओं के कई अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज कराया गया है. यूपीसीबी के एमडी भी इस मामले में नामजद हैं. सहकारिता विभाग की संस्थाओं में सपा शासनकाल में नियमों को तोड़कर भर्तियां की गई थीं. योगी सरकार इस घोटाले को लेकर सख्त थी. 

21 मई को एफआईआर दर्ज कराई गई थी. सहकारिता भर्ती घोटाले में 2 हजार से ज्यादा पदों पर गड़बड़ी मिली थी. यह भर्तियां सपा शासनकाल में 2012 से लेकर 2017 के बीच हुई थीं. घोटाले की जांच एसआईटी की टीम कर रही थी. अप्रैल में एसआईटी की टीम ने जांच के आधार पर आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी. वहीं शासन से अनुमति मिलते ही एसआईटी ने पदाधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया है.  

लखनऊ: मरीजों के तीमारदारों को मिलेगा निशुल्क भोजन, LDA ने शुरू की कम्युनिटी किचन

सपा शासनकाल में हुए इस घोटाले का खुलासा उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद हुआ था. सूत्रों के अनुसार एसआईटी की जांच में सामने आया था कि उ.प्र. सहकारी ग्राम विकास बैंक, भंडारागार निगम, पीसीयू एवं पीसीएफ समेत छह सहकारी संस्थाओं में करीब 2300 पदों पर भर्तियों में हेराफेरी हुई थी. 

पूर्व CM और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का ट्वीट 'पहले टीका फिर परीक्षा' 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें