UP में फिर बढ़ा Corona का खतरा, प्रदेश में आज मिले 19 मरीज, 155 सक्रिय केस

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 13th Dec 2021, 9:50 PM IST
  • यूपी में फिर से कोरोना का खतरा बढ़ने लगा है. प्रदेश में सोमवार को 19 नए मामले सामने आए हैं. जिसके साथ प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 155 के करीब हो गई है. आज सबसे अधिक मामले नोएडा में सामने आए हैं, नोएडा में 8 नए कोरोना के मामले सामने आए हैं.
UP में फिर बढ़ा Corona का खतरा, प्रदेश में आज मिले 19 मरीज, सक्रिय केस 155

लखनऊ. यूपी में फिर से कोरोना का ग्राफ बढ़ने लगा है. प्रदेश में सोमवार शाम को 19 नए मरीज कोरोना के सामने आए हैं. प्रदेश में सबसे अधिक मामले आज नोएडा में सामने आए हैं. नोएडा में 8 नए मरीज मिले हैं. प्रदेश में अभ सक्रिय केसों की संख्या 155 है. प्रदेश में कोरोना की तैयारियों को लेकर यूपी की योगी सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को आवश्यक दिशा निर्देश दे दिए हैं.

इन जिलों में कोरोना के केस

सोमवार को प्रदेश में 19 कोरोना के केस सामने आए हैं. जिसमें नोएडा में 8 मरीज, गाजियाबाद में 3 मरीज, लखनऊ में 2 केस, बरेली, में 1 केस, सहारनपुर में 1 केस, उन्नाव में 1 केस, मथुरा में 1 केस, वाराणसी में 1 केस और देवरिया में एक केस सामने आया है.

नए साल पर रेलवे का तोहफा, इन ट्रेनों में नहीं कराना पड़ेगा रिजर्वेशन, जनरल टिकट पर होगा सफर

अभी तक ये जिले कोरोना से मुक्त

प्रदेश में अभी ये राहत की बात हैं कि प्रदेश के 38 जिलों में कोरोना के केस सामने नहीं आए हैं. जिसमें औरेया, कासगंज, जालौन, हाथरस, हरदोई, हापुड़, हमीरपुर, फिरोजाबाद, इटावा, चित्रकूट, चंदौली, बुलंदशहर, बिजनौर, भदोही, बहराइच, बस्ती, बलरामपुर, बागपत, बदायूं, आजमगढ़, अयोध्या, अमरोहा, मुरादाबाद, मिर्जापुर, मऊ, महोबा, ललितपुर, लखीमपुर-खीरी, कुशीनगर, कौशांबी, उन्नाव, सुल्तानपुर, श्रावस्ती, शाहजहांपुर, रामपुर, प्रतापगढ़ और पीलीभीत कोरोना से मुक्त जिले हैं.

CBSE ने 10वीं के अंग्रेजी पेपर से विवादित सवाल हटाया, छात्रों को फुल मार्क्स

रिकवरी रेट 98.7 फीसदी और पॉजिटीविटी रेट 0.01 फीसदी से कम

प्रदेश में रिकवरी की बात करे तो प्रदेश में रिकवरी रेट 98.7 फीसदी है. जो मार्च में 98.2 फीसदी था. वहीं, पॉजिटीविटी रेट 0.01 फीसदी के करीब है. मरीजों का रिकवरी रेट 2.02 से घटकर 2 फीसदी रह गई. राज्य में रेट 0.01 फीसदी है. जून में ये दर 1 फीसदी रही.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें