सिम से जुड़े बैंक खाते वालों सावधान! कागज जमा करने के मैसेज से गायब हो रही रकम

Smart News Team, Last updated: 07/04/2021 12:28 PM IST
  • साइबर क्रिमिनल इन दिनों नई तकनीक से लोगों के बैंक खाते से रकम उड़ा रहे हैं. जालसाज सिम अपग्रेड करने से लेकर वेरिफिकेशन के जाल में फंसाकर और नंबर 24 घंटे में बंद होने की चेतावनी देकर उनके बैंक अकाउंट पर डाका डाल रहे हैं.
सिम वेरिफिकेशन का मैसेज भेज मोबाइल ग्राहकों के खाते से पैस गायब कर रहे जालसाज.

लखनऊ. यूपी के कई जिलों में इन दिनों सिम डॉक्यूमेंट वेरिफिरेशन और अपग्रेडेशन का मैसेज भेजकर साइबर क्रिमिनल लोगों से ठगी कर रहे हैं. मोबाइल एपलिकेशन डाउनलोड या किसी नंबर पर फोन करवाकर ठग लोगों के बैंक खाते साफ कर रहे हैं. ऐसे में उन लोगों को ज्यादा सावधान रहने की जरुरत है जिनके बैंक खाते उनके मोबाइल नंबर से लिंक हैं.

जालसाज इन दिनों लोगों को फोन या मैसेज करके 24 घंटे में मोबाइल सेवा बंद करने की चेतावनी देकर लोगों पर दबाव बना उनसे ठगी कर रहे हैं. एक ताजे मामले के अनुसार लखनऊ के एक बीएसएनएल उपभोक्ता अम्ब्रीश यादव के पास मैसेज आता है जिसमें उनके सिम डॉक्युमेंट्स को पेंडिंग बताया जाता है और उन्हें एक नंबर पर कॉल करने को कहा जाता है. वहीं उस मैसेज में लिखा होता है कि अगर कॉल नहीं करेंगे तो 24 घंटें में आपका सिम बंद कर दिया जाएगा.  

यूपी सरकार नाइट कर्फ्यू और सभी को कोरोना वैक्सीन लगाने पर करे विचार: हाईकोर्ट

मोबाइल सिम उपभोक्ता दिए नंबर पर फोन करता है तो उन्हें ANY DESK REMOTE CONTROL ऐप डाउनलोड करने को कहा जाता है. बता दें कि अम्ब्रीश के पास एंड्रायड फोन नहीं था तो वह ठगी से बच जाते हैं. वहीं मोबाइल ऑपरेटरों के पास ऐसे मैसेज लगातार आते रहते हैं और लोग जागरुकता के अभाव में धोखाधड़ी का शिकार हो जाते हैं.  

लखनऊ नगर निगम सभी घरों पर लगाएगा यूनिक ID नंबर प्लेट, एक क्लिक में मिलेगी जानकारी

विशेषज्ञों के मुताबिक अगर सिम वेरिफिकेशन के लिए फोन आता है या मैसेज आने के बाद आप करते हैं तो किसी ऐप को उसके बाद डाउनलोड ना करें. ऐसे में साइबर क्रिमिनल यूनिक कोड जानने के बाद आपके फोन का पूरा डाटा एक्सेस कर सकते हैं. ऐसे में मोबाइल बैंकिंग, डेबिट, क्रेडिट कार्ड की जानकारी लेकर आपकी मेहनत की कमाई साफ कर सकते हैं.

यूपी कोरोना गाइडलाइन: अब शादी में सिर्फ इतने लोगों को परमिशन, इन जिलों पर फोकस 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें