लखनऊ: फेक वेबसाइट बनाकर की धोखाधड़ी, खनन विभाग को 200 करोड़ का चूना, 4 अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 08:58 AM IST
रविवार को लखनऊ से साइबर क्राइम पुलिस ने फेक वेबसाइट बनाकर फर्जी रायल्टी पेपर बेचने बनाने वाले गैंग के चार और लोगों को गिरफ्तार किया है.  बता दें कि फर्जीवाडे से खनन विभाग को लगभग अभी तक इससे 200 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है. 
लखनऊ: फेक वेबसाइट बनाकर करी धोखाधड़ी, खनन विभाग को 200 करोड़ का चूना, 4 अरेस्ट

लखनऊ. लखनऊ से साइबर क्राइम पुलिस ने फर्जी वेबसाइट बनाकर फर्जी रायल्टी पेपर बेचने वाले गैंग के चार और लोगों को रविवार को गिरफ्तार किया है. यह लोग खनन संबंधी परविहन के लिए गाड़ियों का फर्जी रायल्टी पेपर(ई-रवन्ना) बनाकर जारी करते थे.  इसने खनन विभाग को लगभग 200 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है.

गिरफ्तार किए गए चारों प्रयागराज के रहने वाले हैं. बता दें कि कुछ दिनों पहले साइबर क्राइम लखनऊ की टीम ने इसी गैंग के चार सदस्यों को गिरफ्तार कर इस गिरोह का पर्दाफाश किया था. साइबर क्राइम पुलिस को खनन विभाग से लगातार शिकायत आ रही थी. इसमें कहा जा रहा था कि फर्जी ई-रवन्ना बनाकर हजारों ट्रकों से अवैध तरीके से बालू, बोरेंग और मिट्टी की निकासी की जा रही है. 

ऑनलाइन एप्स के चंगुल में फंसे युवा, अश्लील वीडियो से ब्लैकमेलिंग कर रहे बदमाश

बता दें कि इस मामले में भू- विज्ञान एवं खनन निदेशालय में तैनात खनन अधिकारी सुभाष रंजन ने साइबर क्राइम थाना लखनऊ में शिकायत की थी.आईपीसी की धारा 420,467,468,471 और आईटी एक्ट की धारा 66 व 67 के तहत अधिकारी सुभाष ने मुकदमा दर्ज कराया था.जांच पड़ताल के दौरान खान एवं खनिज अधिनियम की धारा 3,57, 70 और सार्वजनिक सम्पत्ति क्षति निवारण अधिनियम की धारा 3/5 में बढ़ोतरी की गई है.

यूपी: टैक्स वसूली का 60 फीसदी औद्योगिक क्षेत्रों के विकास पर खर्च किया जाएगा

यह फर्जीवाड़ा करने के लिए गिरोह ने खनन विभाग की फेक वेबसाइट बनाई. इससे वह फर्जी ई-रवन्ना पेपर निकलाकर ट्रक ड्राइवरों और दलालों को बेचते थे. गैंग ने नकली वेबसाइट के लिए खनन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट मिलता जुलता डोमेन खरीद लिया था. फिर यह सभी खनन विभाग की वेबसाइट से पेज काॅपी पेस्ट कर देते थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें