एयर इंडिया के 45 लाख यात्रियों का डाटा हैक, लखनऊ समेत इन एयरपोर्ट पर भी खतरा

Smart News Team, Last updated: Sat, 22nd May 2021, 10:54 PM IST
  • एयर इंडिया पर हुए साइबर हमले के बाद देश में लखनऊ समेत 59 अन्य हवाई अड्डों पर बैगेज मैनेजमेंट सिस्टम और चेक इन का सारा कार्य सीटा ही संभाल रहा है. ऐसे में  एयर इंडिया ही नहीं, अन्य विमान कंपनियों के यात्रियों का डाटा भी खतरे में है.
एयर इंडिया के यात्रियों का डाटा हैक (सांकेतिक फोटो )

लखनऊ। एयर इंडिया पर हुए साइबर हमले में लाखों यात्रियों के डाटा हैक होने के बाद एयर इंडिया का कहना है कि ये डाटा 'सीटा पैसेंजर सर्विस सिस्टम' से लीक हुआ है. अब परेशानी की बात यह है कि देश में लखनऊ समेत 59 अन्य हवाई अड्डों पर बैगेज मैनेजमेंट सिस्टम और चेक इन का सारा कार्य सीटा ही संभाल रहा है. ऐसे में एक बड़ी मुसीबत सामने आ रही कि एयर इंडिया ही नहीं, अन्य विमान कंपनियों के यात्रियों का डाटा भी खतरे में है.

एयरपोर्ट सूत्रों के मुताबिक देश के तमाम एयरपोर्ट पर लम्बे समय से बैगेज और बोर्डिंग का कार्य सीटा के प्लेटफॉर्म पर ही करवाया जा रहा है. जिसके बाद अभी पता चल रहा है कि एयर इंडिया के 45 लाख यात्रियों का डेटा हैक हो गया है, लेकिन अगर सीटा पर साइबर हमला होने की पुष्टि हो गई तो यह संख्या काफी अधिक बढ़ सकती है.

CM सोशल मीडिया टीम के कर्मचारी पार्थ श्रीवास्तव सुसाइड मामले में एफआईआर दर्ज, सीनियर पर उत्पीड़न का आरोप

पूरे देश में सिर्फ लखनऊ एयरपोर्ट पर ही सालाना तकरीबन 55 लाख यात्री आते-जाते हैं. एयर इंडिया पर हुए इस साइबर हमले में यात्रियों की निजी जानकारियां भी चुराई गई हैं जिनमें पासपोर्ट की डिटेल्स भी शामिल है. एयर ट्रैवेल एसोसिएशन व एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी के सदस्य सुनील सत्यवक्ता के अनुसार एयर इंडिया के साथ साथ साइबर हमले में दो बड़ी अन्तरराष्ट्रीय एयरलाइंस का डाटा भी लीक होने की सूचना मिली है.

यूपी: मदरसों में हो रहे भ्रष्टाचार पर नकेल कसने की तैयारी में योगी सरकार, होगी SIT जांच

उन्होंने आगे कहा कि लखनऊ एयरपोर्ट पर कौन सा सॉफ्टवेयर प्रयोग हो रहा है, इसकी पुख्ता जानकारी उनके पास नहीं है. वहीं एक बड़ी एयरलाइंस के एक कर्मचारी ने बताया कि लखनऊ एयरपोर्ट पर सभी एयरलाइन बैगेज व चेकइन के लिए सीटा का सॉफ्टवेयर ही इस्तेमाल किया जाता है. अगर 26 अगस्त 2011 से फरवरी 2021 तक एयरपोर्ट का डाटा प्रभावित हुआ है तो जितने यात्रियों के डाटा हैक होने की संख्या जितनी समझी जा रही है, वह उससे कई गुना ज्यादा होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें