ऑक्सीजन नहीं मिलने पर मुंह से ही सांस देने लगी बेटियां, फिर भी नहीं बच पाई मां

Smart News Team, Last updated: 03/05/2021 12:11 AM IST
ऑक्सीजन की कमी के चलते अस्पताल में बेटियां अपनी मां को मुंह से ही सांस देने लगी. लेकिन बेटियों के लाख प्रयास के बाद भी वे सफल नहीं हो पाई और उनकी मां ने दम तोड़ दिया. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.
अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के चलते अपनी मां को मुंह से सांस देतीं बेटियां

लखनऊ. देश में एक ओर कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड की कमी से दिल को झकझोर देने वाली तस्वीरें भी सामने आ रहे हैं. दरअसल, ऑक्सीजन की कमी के चलते एक मां को उसकी बेटियों ने मुंह से सांस लेकर उनकी जान बचाने की कोशिश की. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.

जानकारी के अनुसार शुक्रवार रात दो बेटियां अपनी बीमार मां को लेकर मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी में लेकर पहुंची. सांस लेने में परेशानी होने के कारण उन्हें तुरंत ऑक्सीजन सिलेंडर चाहिए था. बेटियों ने मां को ऑक्सीजन सिलेंडर दिलाने का भरसक प्रयास किया लेकिन दोनों और सफल रहीं. मां को तड़पता देखकर बेटियों ने अपने मुंह से ही ऑक्सीजन देना शुरू कर दिया. बेटियां काफी देर तक मुंह से अपनी मां को ऑक्सीजन देती रहीं लेकिन अपनी मां को बचाने का बेटियों का यह आखिरी प्रयास भी असफल रहा. कुछ देर में उनके सामने ही मां ने दम तोड़ दिया. इसके बाद बेटियां मां के शव से लिपटकर रोने लगीं. इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो शनिवार मध्य रात्रि से सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है.इसके बाद मेडिकल कॉलेज प्रबंधन पर भी सवाल उठ रहे हैं.

होम आइसोलेटेड मरीजों के बेहतर इलाज पर अधिकारी दे रहे जोर, घर जाकर किया निरीक्षण

इस मामले में बहराइच के मेडिकल कॉलेज के सीएमएस डॉ डीके सिंह का कहना है कि शुक्रवार रात आठ बजे एक महिला अस्पताल लाई गई थी. उस समय उसकी अन्तिम सांस चल रही थी. तत्काल आक्सीजन मंगाई गई लेकिन इलाज का मौका ही नहीं मिला. महिला ने थोड़ी देर बाद ही दम तोड़ दिया. प्रभारी सीएमएस डॉ. केके वर्मा ने तुरन्त डॉ. आशीष अग्रवाल सहित दो डॉक्टरों को दिखाया. दोनों ने उसकी मौत की पुष्टि कर दी. शायद मां की जान बच जाए इसलिए उनकी बेटियां भावनावश उन्हें मुंह से सांस देने की कोशिश करने लगी. इसके तुरन्त बाद डेड बाडी लेकर चली गईं. उसकी एंट्री भी नहीं की जा सकी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें