UP में दिवंगत और दिव्यांग होमगार्ड आश्रितों को 5 लाख की आर्थिक मदद के साथ एक साल में मिलेगी नौकरी

Anurag Gupta1, Last updated: Mon, 15th Nov 2021, 8:04 AM IST
  • होमगार्ड विभाग अब दिव्यांग और दिवंगत होमगार्डों के आश्रितों को पांच-पांच लाख रूपये देगा. जिसके लिए शासन को 25 करोड़ की अनुग्रह राशि दे दी है हरी झंडी मिलने का इंतजार है. अभी 400 पात्र होमगार्ड चुने गए हैं. इसका लाभ जवान की मौत बीमारी से हुई हो या हादसे में सभी को आर्थिक सहायता का लाभ मिलेगा.
(फाइल फोटो)

लखनऊ. होमगार्ड विभाग में काम कर रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है. होमगार्ड विभाग अब दिव्यांग और दिवंगत होमगार्डों के आश्रितों को पांच-पांच लाख रूपये देगा. होमगार्ड विभाग ने 400 पात्र होमगार्ड चुने है. जिसमें से 40 दिव्यांग है और बाकी के दिवंगत हैं. शासन ने विभाग को 25 करोड़ की अनुग्रह राशि दे दी है. विभाग के उच्च अधिकारियों ने छह दिसंबर को होमगार्ड विभाग के 59वें स्थापना दिवस पर पात्रो को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा चेक देने की अनुमति मांगी है.

होमगार्ड विभाग के अधिकारियों के मुताबिक बीते साल विभाग के 58वें स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री ने दिवंगत और एक पूरा अंग दिव्यांग होने वाले जवानों को पांच-पांच लाख रूपए देने की घोषणा की थी. इस मदद राशि के पहले बीमा के जरिए आर्थिक मदद करने की योजना थी. जिसमें प्रक्रिया पूरी होते होते एक या ढेड़ लाख रूपए मिल पाता था.

अमित शाह ने दो दिवसीय दौरे में कार्यकर्ताओं को दिया यूपी चुनाव में जीत का मंत्र, कही ये बातें

हर होमगार्ड जवान को मिलेगा लाभ:

डीआईजी रणजीत सिंह के मुताबिक इसका लाभ घर व ड्यूटी के दौरान दिवंगत हुए लोगों सबको मिलेगा. उस जवान की मौत बीमारी से हुई हो या हादसे से सभी को आर्थिक सहायता का लाभ मिलेगा. बस इसमें नियम होंगे पहला वो होमगार्ड विभाग से बाहर न किया गया हो दूसरा उसकी आयु 60 से अधिक न हो. इसी क्रम में डीआईजी ने बताया कि 400 होमगार्डों के नामों का चयन हुआ है. इसमें दिव्यांग और दिवंगत शामिल है. प्रत्येक जिला कमाण्डेंट कार्यालय पर उपलब्ध ब्यौरे से इन जवानों के दस्तावेज, स्वास्थ्य परीक्षण का मिलान करा लिया गया है. विभाग ने पूरी तैयारी कर ली है अब शासन के आदेश का इंतजार है.

एक साल के अंदर मिल रही नौकरी:

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद से एक साल के अंदर मृतक आश्रितों को नौकरी मिल रही है. मानक पूरा कर रहे मृतक आश्रितों का चयन पूरा हो गया है. उन्हें प्रशिक्षण दिया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें