मृतक के आश्रितों को दूसरे विभागों में मिल सकेगी अनुकंपा नौकरी, नियमावली में संशोधन किया

Nawab Ali, Last updated: Thu, 4th Nov 2021, 7:52 AM IST
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने अनुकंपा नौकरी देने की प्रक्रिया में बदलाव करते हुए भर्ती नियमावली 1974 में संसोधन किया है. इस संशोधन के बाद मृतक के आश्रित को पद न होने पर दूसरे विभाग में भी नौकरी मिल सकती है. 
फाइल फोटो.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मृतक आश्रित कोटे पर अनुकंपा के आधार पर नौकरी देने की प्रिक्रिया तय कर दी है. सरकार ने मृत सरकारी सेवकों के आश्रितों की भर्ती नियमावली 1974 में संशोधन किया है. इस संशोधन के बाद अगर मृतक आश्रित कोटे पर अनुकंपा के आधार पर उसी विभाग में पद न होने पर दूसरे विभागों में नौकरी देने की व्यवस्था की गई है. इससे पहले नियमावली के आधार पर उसी विभाग में नौकरी दी जाती थी. 

अपर मुख्य सचिव कार्मिक देवेश चतुर्वेदी ने मृत सरकारी सेवकों आश्रितों की भर्ती नियमावली 1974 में संशोधन के लिए शासनादेश जारी कर दिया है. शासनादेश के मुताबिक कोविड व 1 अप्रैल 2020 से अब तक नॉन कोविड मृत कार्मिकों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति देने और सभी देयकों के भुगतान को लेकर बठकों में तृतीय व चतुर्थ श्रेणी के पदों की कमी के बारे में जानकारियां मिली. इस लिए अनुकंपा पर नौकरी के आधार पर अगर उसी विभाग में पद नहीं है तो किसी अन्य विभाग में नौकरी दी जाएगी. इस नई व्यवस्था के अनुसार जो विभाग समूह ग के पर्याप्त पद नहीं हैं और 10 फीसदी से अधिक अधिसंख्य पद सृजित कर्ण की आवश्कता है तो कार्मिक विभाग को प्रस्ताव उपलब्ध कराया जायेगा.

अब जब कार सेवा होगी तो रामभक्तों, कृष्णभक्तों पर गोली नहीं चलेगी, पुष्पवर्षा होगी: योगी

इसमें बताना होगा कि कितने मृतक आश्रितों को अन्य विभाग में समायोजित करने की जरूरत है और उसकी अर्हता क्या है. सेवा चयन आयोग को सभी पदों की जानकारी एकत्र कर कार्मिक विभाग समूह ग के पद समायोजन के लिए विभाग चिह्नित करेगा. हालांकि इसे लंबी प्रिक्रिया से गुजरना होगा. कार्मिक विभाग के परिक्षण के बाद मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बनने वाली उच्चाधिकार समिति के संख रखा जायेगा. इस समिति में अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव कार्मिक सदस्य सचिव होंगे. समिति किस आश्रित को किस विभाग में किस पद पर नियुक्त देने के लिए संस्तुति करेगा इस पर मुख्यमंत्री से अनुमोदन लिया जाएगा.   

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें