बुखार के साथ हाथ पैर की सूजन को नहीं करें नजरअंदाज, भुगतना पड़ेगा गंभीर परिणाम

Uttam Kumar, Last updated: Wed, 17th Nov 2021, 8:32 AM IST
  • अगर बार – बार बुखार आ रहा है, बदन दर्द हो रहा है, हाथ या पैर में सूजन है तो यह फाइलेरिया हो सकता है. इससे नजरअंदाज नहीं करें,डॉक्टर से सलाह जरूर ले. फाइलेरिया के खात्मे के लिए 22 नवंबर से सात दिसंबर तक विशेष अभियान चलाया जाएगा.  
फाइलेरिया के खात्मे के लिए 22 नवंबर से सात दिसंबर तक विशेष अभियान चलाया जाएगा.प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. अगर आपको या परिवार के किसी सदस्य को बार – बार बुखार आ रहा है. बदन दर्द हो रहा है. हाथ या पैर में सूजन हो तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. वरना आपको गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. अगर ये सभी लक्षण दिखाई देता है तो आपको डॉक्टर से दिखाने की जरूरत है. यह फाइलेरिया(filaria) हो सकता है. 

फाइलेरिया मच्छर के काटने से होता है. आमतौर पर इससे हाथी पाव भी कहते हैं. क्योंकि इसमे पैर में ककाफी ज्यादा सूजन हो जाता है. फाइलेरिया का इलाज उपलब्ध है. यह पुरी तरह से ठीक हो जाता है लेकिन इलाज में देरी घातक साबित हो सकती है. क्योंकि यह मच्छर से फैलता है इसलिए अपने आसपास साफ सफाई रखे, पानी जमा नहीं होने दे. फूल आस्तीन के कपड़े का इस्तेमाल करें. सोने समय मच्छरदानी का उपयोग करें. मच्छर रोधी क्रीम लगायें.  

UP में डेंगू ने तोड़ा 8 साल का रिकॉर्ड, 25800 लोग संक्रमित, यह जिले हैं अधिक प्रभावित 

राष्ट्रीय वेक्टर जनित नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी और अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. केपी त्रिपाठी के अनुसार फाइलेरिया के खात्मे के लिए 22 नवंबर से सात दिसंबर तक विशेष अभियान चलाया जाएगा. आशा और आगंनबाड़ी कार्यकर्ता घर - घर जाकर फाइलेरिया की दवाई खिलाएगी. फाइलेरिया की दवाई परजीवियों को तो मारती ही है. पेट के अन्य कीड़ों, खुजली और जूं का भी खात्मा करती है. इस दवा को खाली पेट नहीं खाना चाहिए. साथ ही दो साल से कम आयु के बच्चों, गर्भवती और गंभीर रोगी इन दवाओं का सेवन नहीं करें. दवा को चबाकर खाना है. 

कोविड की तरह होम आइसोलेट होंगे जीका वायरस संक्रमित मरीज, हेल्पलाइन नंबर जारी

डॉ त्रिपाठी के अनुसार दवाई के इस्तेमाल के बाद मरते हुए परजीवियों के प्रतिक्रिया स्वरूप कभी -कभी दवा का सेवन के बाद सर दर्द, बदन दर्द, बुखार, उल्टी, बदन पर चकत्ते और खुजली हो सकता. इससे घबराने की जरूरत नहीं है. ये सभी लक्षण आमतौर पर खुद ही ठीक हो जाते हैं. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें