अंजान महिला से नहीं करें विडियो कॉल, नहीं तो हो सकते हैं ब्लैकमेलिंग के शिकार

Smart News Team, Last updated: 08/02/2021 06:37 PM IST
  • वाट्सएप अथवा फेसबुक मैसेंजर पर वीडियो कॉल आए तो उसे रिसीव न करें वो आपके लिए हनी ट्रैप हो सकता है. क्योंकि कॉल रिसीव करते ही आप नग्न वीडियो चैट करने वाले हनी ट्रैप गिरोह की हसीनाओं के जाल में फंस सकते हैं. 
अंजान महिला से नहीं करें विडियो कॉल, नहीं तो हो सकते हैं ब्लैकमेलिंग के शिकार

लखनऊ: अगर देर रात के आपके पास किसी अनजान महिला की वाट्सएप अथवा फेसबुक मैसेंजर पर वीडियो कॉल आए तो उसे रिसीव न करें वो आपके लिए हनी ट्रैप हो सकता है. क्योंकि कॉल रिसीव करते ही आप नग्न वीडियो चैट करने वाले हनी ट्रैप गिरोह की हसीनाओं के जाल में फंस सकते हैं. वीडियो कॉल के दौरान वह खुद तो मोबाइल स्क्रीन पर न्यूड होती हैं, और आपको भी आपत्तिजनक वीडियो चैट के लिए उकसाती हैं. आप अगर वीडियो कॉल नहीं भी करते हैं, तो वह कुछ ही सेकेंड्स में आपका वीडियो बनाकर उसे फेसबुक, यूट्यूब, इंटग्राम पर वायरल करने की धमकी देकर आपसे मोटा पैसा ऐंठ सकती हैं. एसीपी साइबर क्राइम सेल विवेक रंजन राय ने अलर्ट जारी कर लोगों को सचेत रहने के लिए कहा है.

हनी ट्रैप वाली महिलाऐं दोस्ती कर वीडियो चैट के लिए करती हैं उत्तेजित

एसीपी साइबर क्राइम सेल विवेक रंजन राय ने बताया कि हनी ट्रैप गिरोह की यह महिलाएं पहले वाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम पर हाय, हेलो करती हैं अथवा आपको फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजती हैं. इसके बाद आपसे दोस्ती करके आपके बारे में धीरे-धीरे जानकारी जुटाती हैं. धीरे-धीरे आपसे आपत्तिजनक बातें करती हैं. इसके बाद आपको आपत्तिजनक वीडियो कॉल के लिए उकसाती हैं. अगर आप वीडियो चैट करने को राजी हो जाते हैं तो वह आपका न्यूड वीडियो चैट अपने साथ बना लेती हैं. इसके बाद सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देकर आपको ब्लैकमेल करती हैं.

धरने के दौरान हमले का मामला, रीता जोशी समेत 18 से केस वापसी पर 20 फरवरी को फैसला

हनी ट्रैप के शिकार लोगों का अनुभव, पहला मामला

नाका क्षेत्र में रहने वाले प्राइवेट बैंक के सेल्स एक्जीक्यूटिव के पास बीते माह रात करीब दो बजे एक गिरोह की महिला का वाट्सएप मैसेज आया. महिला ने कहा हाय मैं और अपना नाम भेजा. एक्जीक्यूटिव घर पर अकेले थें. महिला ने बात की और कहा कि वह थोड़ी देर में काल करती है. पांच मिनट बात महिला ने फिर वीडियो कॉल की. कमरे में अंधेरा था महिला ने लाइट ऑन करने के लिए कहा. एक्जीक्यूटिव के द्वारा कमरे की लाइट ऑन करते ही मोबाइल स्क्रीन पर वीडियो कॉल के दौरान महिला की न्यूड दिखती है. एक्जीक्यूटिव बात करने लगते हैं. 

HC ने अयोध्या में मस्जिद की जमीन पर दावा करने वाली दो बहनों की याचिका की खारिज

इस दौरान वह वीडियो बना लेती है. अगले दिन फिर उन्हें मैसेज करके रुपयों की डिमांड करती है, और धमकाती है कि आपका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है. इसके लिए खाते में 30 हजार रुपये पेटीएम करें. एक्जीक्यूटिव के मना करने पर वह धमकाती है. उनके फेसबुक फ्रेंड को ये विडियो भेज दिया जायेगा. और विडियो को यूट्यूब इंस्टाग्राम पर वीडियो वायरल कर दिया जायेगा. बात 20 हजार पर तय हुई. एक्जीक्यूटिव डर के मारे 20 हजार रुपये का भुगतान कर देते हैं. दो दिन बाद महिला फिर उन्हें काल करके और रुपयों की मांग करती है. इससे त्रस्त होकर एक्जीक्यूटिव ने मामले की शिकायत साइबर क्राइम सेल में की. साइबर क्राइम सेल मामले की जांच कर रही है.

बाइक पर पुलिस का लोगो लगा करते थे चोरी, उड़ाया लाखों का सामान

एसीपी साइबर क्राइम सेल ने कहा बरतें विशेष सावधानियां, जारी किया अलर्ट.

० वाट्सएप अथवा फेसबुक पर किसी अनजान महिला की वीडियो कॉल कतई स्वीकार न करें.

० किसी अनजान महिला से अगर फेसबुक पर दोस्ती हो भी गई हो तो चैटिंग के दौरान अगर वह आपको आपत्तिजनक कार्य के लिए कहें तो कतई न तैयार हों.

० वाट्सएफ और फेसबुक पर किसी भी अनजान लिंक को टच न करें.

० वीडियो चैट के दौरान वह आपको न्यूड होने के लिए उत्तेजित करती हैं, और खुद भी न्यूड हो जाती हैं.

० चैटिंग के दौरान वह आपकी जरूरत जानने की कोशिश करती है.

० वह आपके और आपके परिवार के बारे में भी जानकारी जुटाती है.

० आप अकेले रहते हैं अथवा किसी के साथ. यहां तक की जानकारी इनको होती है.

० किसी अनजान महिला से चैटिंग के दौरान अपनी फोटो शेयर न करें.

० फेसबुक प्रोफाइल आदि लॉक करके रखें.

एसीपी साइबर क्राइम नेबताया, राजस्थान, हरियाणा का है गैंग.

एसीपी साइबर क्राइम सेल विवेक रंजन राय ने बताया कि वीडियो कॉल करने वाली इन महिलाओं और युवतियों के गैंग को ट्रैक कर लिया गया है. यह राजस्थान के भरतपुर, दौसा और हरियाणा के गुड़गांव का है. आइपी एड्रेस और नंबर के आधार पर इनकी लोकेशन ट्रेस की गई है. इनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं. लगातार बढ़ती घटनाओं को देखते हुए अलर्ट भी जारी किया गया है कि लोग किसी अनजान महिला की वीडियो कॉल न रिसीव करें.

यूपी पंचायत चुनाव के लिए बीजेपी की रणनीति तय, कार्यकर्ताओं की दिया गया जिम्मा

कहां से लेती हैं, नम्बर और डाटा?

साइबर क्राइम सेल के एक्पर्ट अखिलेश सिंह और शरीफ खान ने बताया कि इस गिरोह के लोग आपकी फेसबुक आईडी में अबाउट मी ऑप्शन में जाकर वहां पड़े मोबाइल नंबर को ले लेती हैं अक्सर लोग अपना मोबाइल नम्बर भी प्रोफाइल में डालते हैं. इसके अलावा गूगल पर सेव नम्बरों से भी डेटा जुटाते हैं. आप अपने नंबर पेट्रोल पंप और शॉपिंग मॉल में शेयर करते हैं वहां के कर्मचारियों से डिटेल जुटाते हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें