लखनऊ: दलालों संग मिलकर डॉक्टर कर रहे मरीजों को गुमराह, अफसर बैठे चुप

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 09:59 AM IST
लखनऊ के लोहिया संस्थान में गार्ड के साथ मिलकर डाॅक्टर और कर्मचारी भी मरीजों को गुमराह करते हैं. इसमें मरीजों को पहले संस्थान से प्राइवेट अस्पताल भेजते हैं. फिर इसके बाद दलालों के जरिए अपनी क्लीनिक पर बुलाते हैं. ये मरीजों की जल्द से जल्द जांच और रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर यह ठगी की जाती है.
डाॅ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ

लखनऊ. लखनऊ के लोहिया संस्थान में गार्ड के साथ मिलकर डाॅक्टर और कर्मचारी भी मरीजों को गुमराह करते हैं. डाॅ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में जो इलाज कराने आते उन्हें यह पहले यहां से प्राइवेट अस्पताल भेजते हैं. फिर इसके बाद दलालों के जरिए अपनी क्लीनिक पर बुलाते हैं.

हैरानी की बात तो यह है कि इस नेटवर्क के बारे में अफसरों को पता पर भी वो कुछ नहीं कर पा रहे. जानते हुए भी सभी लोग चुप हैं. मरीजों का गुमराह करने का खेल सिर्फ लोहिया संस्थान में ही नहीं पूरे शहर में चल रहा है. इससे डाॅक्टर, गार्ड और एजेंट मिलकर पैसे कमा रहा हैं.

लखनऊ:नीट सॉल्वर गैंग का सदस्य निकला लोहिया संस्थान का रेजीडेंट डॉ सचिन, बर्खास्त

बता दें कि पुलिस ने बुधवार को लोहिया संस्थान के तीन गार्ड को मरीजों की दलाली करते पकड़ा था. ये मरीजों की जल्द से जल्द जांच और रजिस्ट्रेशन कराने के नाम पर ठगी करते थे. इनके साथ मिले हाने का लोहिया संस्थान के कई डाॅक्टर और टेक्नीशियन पर प्राइवेट प्रैक्टिस का आरोप हैं. 

कोरोना का डर: 80 प्रतिशत लोगों में नहीं रही घर के बाहर कदम रखने की हिम्मत!

इस दौरान पता चला कि इंदिरानगर हनुमान मंदिर के पास लोहिया संस्थान के एक डाॅक्टर मरीजों को सलाह देते हैं. गंभीर जांच के लिए संस्थान भेज देते हैं. ऐसे ही कैंसर रोग विभाग के डाॅक्टर मरीजों को बाहर से ली जाने वाली दवाई लिखकर देते हैं. यह दवाईयां सिर्फ हाॅस्पिटल ब्लाॅक के सामने कुछ ही दुकानों पर मिलती है. मरीजों पर दवाब बनाया जाता है कि वो गोमतीनगर हुसैडिया के पास की पैथोलाॅजी से ही जांच कराएं.संस्थान में कई सालों से काम कर रहे और पक्के हो चुके कई टेक्नीशियन तक प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें