कोरोना के चलते दो साल से बंद स्पोर्ट्स कॉलेज के ट्रायल 17 जनवरी से शुरू, जानें ड

Anurag Gupta1, Last updated: Sat, 18th Dec 2021, 8:23 AM IST
  • कोरोना वायरस के चलते दो साल से स्पोर्ट्स कॉलेज में ट्रायल बंद था. दो शून्य सत्र होने के बाद अब पूरी तैयारी कर ली गयी है. ट्रायल का प्रारंभिक सत्र 17 जनवरी से नौ फरवरी तक आयोजित किया जाएगा.
स्पोर्ट्स कालेज में अभ्यास करता खिलाड़ी (फाइल फोटो)

लखनऊ. कोरोना संक्रमण के बाद राज्य के तीनों स्पोर्ट्स कॉलेज खुलने जा रहे हैं. दो सत्र शून्य होने के बाद स्पोट्र्स कालेजों में प्रवेश की तैयारी पूरी कर ली गई है. ट्रायल का प्रथम चरण 17 जनवरी से नौ फरवरी तक आयोजित किए जाएंगे. साथ ही जो खिलाड़ी पहले से कॉलेज में हैं उनकी भी ट्रेनिंग नए सत्र में शुरू हो जाएगी.

राज्य में गुरू गोविंद सिंह स्पोट्र्स कॉलेज लखनऊ, ध्यानचंद स्पोट्र्स कॉलेज सैफई और वीर बहादुर सिंह स्पोट्र्स कॉलेज, गोरखपुर में नौ से 12 वर्ष तक के बच्चों को प्रवेश दिया जाता है. मण्डलीय स्तर पर प्रारंभिक चयन के बाद चुने हुए खिलाड़ियों को सरकारी खर्च पर ट्रेनिंग दी जाती है. उनकी पढ़ाई लिखाई, रहने, खाने आदि का खर्च भी सरकार उठाती है.

सरकार के फैसले के खिलाफ फिर खड़े हुए वरुण गांधी, बैंक निजीकरण को लेकर किया ट्वीट

कौन कर सकता है आवेदन:

स्पोट्र्स कॉलेज प्रबंध समिति के सचिव एवं लखनऊ स्पोट्र्स कॉलेज के प्रधानाचार्य एसएस मिश्रा ने बताया कि प्रवेश के लिए आवेदन पत्रों को मिलने की सिलसिला पांच जनवरी से शुरू हो जाएगा. इस ट्रायल में वही खिलाड़ी हिस्सा ले सकते हैं जिनका जन्म 1 अप्रैल 2010 से पहले और 31 मार्च 2013 के बाद हुआ है.

साथ ही बताया कि 2020 में प्रारंभिक ट्रायल हो गए थे. कोरोना संक्रमण के चलते अंतिम ट्रायल नहीं हो सके थे. वर्ष 2021 में ट्रायल नहीं हुए थे. अब ट्रायल होने जा रहे हैं साथ ही स्पोट्र्स खुलने के बाद खिलाड़ियों की ट्रेनिंग शुरू हो जाएगी.

कहां पर किस खेल की सुविधा:

गुरू गोविंद सिंह स्पोट्र्स कॉलेज लखनऊ में एथलेटिक्स, वॉलीबाल, फुटबॉल, क्रिकेट, बैडमिंटन, हॉकी (सारे खेल बालकों के लिए)

ध्यानचंद स्पोट्र्स कॉलेज सैफई में क्रिकेट, एथलेटिक्स, फुटबॉल, कुश्ती, कबड्डी, तैराकी (बालकों के लिए) बैडमिंटन और जूडो (बालिकाओं के लिए)

वीर बहादुर सिंह स्पोट्र्स कॉलेज गोरखपुर में वॉलीबाल, जिमनास्टिक एवं कुश्ती (बालक एवं बालिका के लिए) हॉकी (बालिकाओं के लिए)

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें