दशहरा, दिवाली के लिए UP सरकार की गाइडलाइंस, जानें कोरोना में त्योहारों के नियम

Smart News Team, Last updated: 09/10/2020 07:26 PM IST
कोरोना महामारी में दुर्गा पूजा, दशहरा और दिवाली के लिए यूपी सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर दी हैं. धार्मिक और कार्यक्रम स्थलों पर सेनेटाइज़ेशन, थर्मल स्कैनिंग और शारीरिक दूरी बनाना जरूरी. कोविड-19 के लक्षण दिखने पर कार्यक्रम स्थलों पर प्रवेश नहीं मिलेगा.
दशहरा, दिवाली के लिए UP सरकार की गाइडलाइंस, कोरोना लक्षण वालों को एंट्री नहीं

लखनऊ. दुर्गा पूजा, दशहरा और दीवाली के लिए यूपी सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर दी है. कोरोना महामारी के बीच त्योहारों का रंग फीका ना हो इसके लिए प्रदेश सरकार ने जरूरी गाइडलाइंस दी हैं जिसका खास ध्यान रखना होगा.  

अक्टूबर से दिसम्बर के बीच में मुख्यतः त्यौहार आते है जो है- नवरात्रि, दुर्गापूजा, दशहरा, बारावफात, दीपावली, छठ पूजा एवं क्रिसमस आदि त्यौहार होते है. जिसमें जगह जगह प्रतिमा स्थापना, धार्मिक पूजा, मेला, जागरण, सांस्कृतिक कार्यक्रम विसर्जन जैसी गालिविधिया होती है. जिनमे भरी संख्या में जान समूह जुटने की संभावना रहती है. अतः ऐसे में कोविड-19 के संक्रमण के बढ़ने के आसार ज्यादा होंगे. 

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने त्योहारों के दौरान कोरोना महामारी को रोकने के लिए गाइड लाइन जारी की है.

जानें क्या है कोरोना के बीच त्योहारों के लिए गाइडलाइंस-

• त्योहारों के आयोजनों के लिए आयोजक पहले से ही स्थलों को चिन्हित कर ले. स्थलों पर थर्मल स्कैनिंग, सेनेटाइज़ेशन और शारीरिक दूरी बनाये रखने की व्यवस्था हो.

• कार्यक्रम स्थलों पर शारीरिक दुरी बनाने के लिए वृत्त(गोला) बनाये जाये। प्रवेश द्वार पर ही थर्मल स्कैनिंग और सेनेटाइज़ेशन की व्यवस्था हो.

• केवल उन्ही स्टाफ और लोगो को प्रवेश मिले जिनमे किसी भी प्रकार के कोविड लक्षण न मिले. लक्षण मिलने पर शिष्टता के साथ प्रवेश लेने से मन किया जाएगा. 

शारदीय नवरात्र 2020 तिथि-शुभ मुहूर्त: दुर्गा पूजा कैलेंडर, कब है दशहरा? जानें सब

• सभी स्टाफ और दर्शको को फेस मास्क का उपयोग अनिवार्य होगा और कार्यक्रम स्थल के अंदर और बाहर लोगो को शारीरिक दुरी के मानक का पालन करना होगा.

• कार्यक्रम स्थलों पर आने जाने के लिए अलग अलग रस्ते बनाये जाये और हो सके तो एक से अधिक रस्ते सुनिश्चित किये जाए. 

देश के आठ सबसे अधिक प्रदूषित शहरों में शामिल हैं यूपी के ये छह शहर, जानें नाम

• सामूहिक खान-पान, लंगर आदि कर्यकर्मो में भोजन बनाने, वितरण करने एवं अवशेष वस्तुओ के डिस्पोजल आदि में शारीरिक दूरी के नियमो तथा स्वच्छता का पालन करना होगा.

• कार्यक्रम परिसरों में आवश्यकतानुसार स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था करनी होगी जिसमे डिस्पोजल कप का प्रयोग किया जायेगा.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें