डेंगू के बीच नगर निगम नहीं दे रहा सफाई पर ध्यान, स्थानीय लोगों ने किया प्रदर्शन

Anurag Gupta1, Last updated: Mon, 8th Nov 2021, 10:34 AM IST
  • लखनऊ के खरगापुर में कूड़े का ढेर बना लोगों के समस्या. लंबे समय से परेशान चल रहे स्थानीय निवासियों ने नगर निगम व नगर आयुक्त के खिलाफ नारेबाजी की. स्थानीय नागरिकों ने जल्द समाधान न होने पर नगर निगम कार्यालय घेरने की बात कही. नगर निगम के जोनल अधिकारी सुजीत श्रीवास्तव ने इसके निदान की बात कही है.
खरगापुर में नगर निगम और नगर आयुक्त के खिलाफ प्रदर्शन करते स्थानीय नागरिक 

लखनऊ. लखनऊ में कूड़े का ढेर लोगों के लिए परेशानी बन गया है. गोमतीनगर स्थित खरगापुर में भी एक कूड़े का ढेर और उस कूड़े से उठने वाली बदबू ने लोगों का जीना मुहाल कर रखा है. लंबी शिकायतों के बाद खरगापुर निवासियों को अब नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन करना पड़ रहा है. रविवार को खरगापुर निवासियों ने प्रदर्शन किया और नगर आयुक्त के खिलाफ नारेबाजी की. साथ ही समस्या का जल्द निदान न होने पर नगर निगम कार्यालय का घेराव करने की चेतावनी भी दी.

असल में नगर निगम की तरफ से खरगापुर में खुले में कूड़ा डालकर गंदगी फैलाई जा रही है. डेंगू का कहर शहर में चरम पर है. डेंगू के मच्छर आसपास मौजूद गंदगी से पनपते हैं. ऐसे में लोगों की मांग है यहां से नगर निगम कूड़ा का ढेर हटाए और इसे किसी ऐसी जगह पर बनाए जहां इंसान का आवागमन न हो ज्यादा. यहां से निकले वाले लोगों को भी काफी दिकक्त होती है. बदबू से निकलना मुश्किल है लेकिन लंबे समय से शिकायत के बाद भी इस पर कार्यवाई नहीं हुई.

लखनऊ PGI का एपेक्स ट्रामा सेंटर सोमवार से शुरू, इमरजेंसी व ओपीडी के मरीजों को मिलेगी सेवाएं

इसके विरोध में जन कल्याण समिति व खरगापुर के लोग प्राइमरी स्कूल के पास इकठ्ठा हुए और लोगों ने नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया और नगर निगम के खिलाफ व नगर आयुक्त के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. साथ ही शीघ्र समस्या का समाधान न होने पर नगर निगम कार्यालय घेरने की चेतावनी दी. लोगों के प्रदर्शन के बाद नगर निगम के जोनल अधिकारी सुजीत श्रीवास्तव ने इसके निदान की बात कही है. हालांकि बता दें अपराह्न तक कूड़ा नहीं हटाया जा सका. प्रदर्शन में गिरीश चन्द्र दूबे, सुखवीर सिंह, केके राठौर, अविनाश चंद्र त्रिपाठी, संजय द्विवेदी, रामनरेश शर्मा, प्रजापति, अमित टंडन, जीत बहादुर पुरी समेत तमाम लोग शामिल थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें