कोयला संकट के बीच UP की बिजली में नहीं आएगी कमी, 31 तक 21 घंटे आपूर्ति

Shubham Bajpai, Last updated: Fri, 15th Oct 2021, 6:20 AM IST
  • प्रदेश में कोयले की कमी से बिजली उत्पादन का संकट बढ़ता जा रहा है, लेकिन इसका असर आपूर्ति पर नहीं होने वाला है. इसको लेकर यूपी पावर कारपोरेशन ने तैयारी कर ली है. प्रदेश में 13 से 31 अक्टूबर तक 21 घंटे तक बिजली आपूर्ति की जाएगी. इसको लेकर शेड्यूल जारी कर दिया गया है.
प्रदेश में बिजली कमी का नहीं पड़ेगा आपूर्ति पर प्रभाव, 31 तक मिलेगी 21 घंटे लाइट

लखनऊ. प्रदेश में कोयले की कमी से बिजली उत्पादन में भारी कमी आई है. जिसकी वजह से प्रदेश में निजी कंपनियों से बिजली खरीदी करनी पड़ी है. इस बीच त्योहारी सीजन को देखते हुए यूपी की योगी सरकार ने उपभोक्ताओं को बड़ी राहत देने का फैसला लिया है. जिसके अनुसार, बिजली कमी के बावजूद प्रदेश में पंचायतों और तहसील स्तर पर साढ़े 21 घंटे बिजली आएगी.

13 से 31 अक्टूबर तक लागू बिजली आपूर्ति का आदेश

राज्य भार प्रेषण केंद्र (यूपीएसएलडीसी) ने बिजली आपूर्ति को लेकर आदेश जारी करते हुए शेड्यूल पेश किया है. जिसके अनुसार, पंचायत व तहसील स्तर में साढ़े 21 घंटे बिजली की निर्बाध आपूर्ति की जाएगी. इसके साथ ही बुंदेलखंड क्षेत्र में 20 घंटे बिजली की आपूर्ति की जाएगी. यह आदेश 13 से 31 अक्टूबर तक लागू रहेगा.

Navratri 2021: नवमी पर CM योगी ने किया कन्या पूजन, भोजन कराकर लिया आशीर्वाद

बिजली आपूर्ति के खरीदी जा रही निजी कंपनियों से बिजली

प्रदेश में बिजली उत्पादन में कमी के बाद भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद से लगातार बिजली आपूर्ति की जा रही है. इसके लिए सामान्य से अधिक रेट में निजी बिजली कंपनियों से बिजली की खरीदी करनी पड़ रही है. अभी तक आपूर्ति 31 अक्टूबर तक लागू की गई है, आने वाले समय में इसे दिवाली और छठ पर्व को देखते हुए बढ़ाया भी जा सकता है. 

BJP नेता ने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को बताया लखीमपुर खीरी हिंसा का सूत्रधार

24 घंटे में बिजली आपूर्ति में खर्च हो चुका 83.32 करोड़

बिजली आपूर्ति के लिए पावर कारपोरेशन निजी कंपनियों से बिजली की खरीदी कर रहा है. जिसके अनुसार, महानगरों, जिला मुख्यालयों, तहसीलों और पंचायतों में बिजली आपूर्ति के लिए 24 घंटे में 69.5 मिलियन अधिक बिजली की खरीदी की गई है. जिसके लिए सरकार को 83.32 करोड़ रुपये खर्च किए गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें