यूपी में जरूरी सामान और सर्विस के लिए जारी होंगे ई-पास, जानिए डिटेल्स

Smart News Team, Last updated: 04/05/2021 09:44 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति के लिए राज्य सरकार ने ई-पास जारी करने का फैसला किया है.
यूपी में जरूरी सामान और सर्विस के लिए जारी होंगे ई-पास, जानिए डिटेल्स

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते घोषित हुए लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति के लिए राज्य सरकार ने ई-पास जारी करने का फैसला किया है. अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार ने इस संबंध में शासन का आदेश जारी कर दिया है. आम लोग भी चिकित्सा सेवाएं हासिल करने के लिए इस ई-पास का आवेदन कर सकते हैं.

अगर कोई भी व्यक्ति आवश्यक वस्तुओं की सेवाएं हासिल नहीं कर पा रहा है तो ऐसे में वह मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1076 पर अपनी शिकायत भी दर्ज करा सकता है. आवेदक rahat.up.nic.in पर मौजूद लिंक के जरिए ई-पास के लिए आवेदन करा सकते हैं. ई-पास पोर्टल पर एक संस्था आवेदक सहित पांच कर्मियों के लिए संस्थागत पास का आवेदन भी कर सकती है. ऑनलाइन आवेदनों को अधिकारियों द्वारा परीक्षण व सत्यापन के बाद स्वीकृत अथवा अस्वीकृत किया जाएगा.

यूपी में सस्ती हो गई शराब, अब इतने कम दाम में मिलेगी बोतल, जानें रेट लिस्ट

स्वीकृत आवेदनों को ई-पास ऑनलाइन जारी किया जाएगा जिन्हे एसएमएस पर दिए लिंक से डाउनलोड और प्रिंट कराया जा सकेगा. ई-पास की पूरी अवधि में जांच के समय आवेदक को ई-पास के साथ आवेदन करते समय अपलोड किया हुआ जीएसटी प्रमणपत्र, वाणिज्यिक पंजीकरण प्रमाण पत्र, फोटायुक्त पहचान पत्र, पैनकार्ड, मतदाता पहचान पत्र व अन्य प्रपत्र दिखाना अनिवार्य होगा. चेकिंग के समय पुलिसकर्मी क्यूआर कोड के जरिए ई-पास का सत्यापन करेंगे. ई-पास जारी करते वक्त अधिकारियों को भी पूरी एहतियात बरतने का निर्देश दिया गया है.

सावधान! रेमडेसिविर की जल्दबाजी में ना हो जाए ठगी, ऐसे हो रहा ऑनलाइन फ्रॉड

किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना करने पर निम्न नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं

ई-पास के आवेदन संबंधी किसी समस्या के निराकरण के लिए विशेष सचिव राजस्व विभाग रामकेवल के मोबाइल नंबर 9411006000,

प्रोजेक्ट एक्सपर्ट चंद्रकांत के मोबाइल नंबर 9988514423,

वाट्सएप नंबर 9454411081,

राहत आयुक्त कार्यालय के नंबर 0522-2238200. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें