EPFO News: घर बैठे अपने PF अकाउंट से जोड़ें नॉमिनी का नाम, यहां देखें पूरा स्टेप

Smart News Team, Last updated: Tue, 14th Dec 2021, 5:16 PM IST
  • घर बैठे ऑनलाइन अपने PF अकाउंट से नॉमिनी का नाम जोड़ सकते हैं. 
घर बैठे अपने PF अकाउंट से जोड़ें नॉमिनी का नाम

लखनऊ: किसी भी स्कीम के लिए अकाउंट होल्डर को अपने उत्तराधिकारी यानी की नॉमिनी का नाम देना होता है. ताकि मृत्यू होने के बाद आपके नॉमिनी को पैसा मिल जाए. अगर आपने पीएफ में अकाउंट में किसी नॉमिनी का नाम नहीं दिया है तो घर बैठे आप ये काम कर सकते हैं. जिससे अगर अचानक परिस्थितियों में निवेशक का निधन हो जाए तो नॉमिनी को पैसा मिल सके. इसके लिए कुछ रूल है जिसके बाद आप घर बैठे कुछ स्टेप को फॉलो करते हुए नॉमिनी का नाम ऐड कर सकते हैं. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने भाग-दौड़ से बचने के लिए ये सुविधा शुरू की है. यह पूरी प्रक्रिया डिजिटल कर दी गई है.

यहां देखें पूरा स्टेप

इसके बाद Member UAN/Online Service पर क्लिक करें.

UAN और पासवर्ड के साथ लॉगइन करें.

मैनेज टैब पर क्लिक करने के बाद E- Nomination सिलेक्ट करें.

Provide Details टैब पर जाएं और पूरी जानकारी दें और Save कर दें.

फैमली से जुड़ी डीटेल्स के लिए Yes पर क्लिक करें. फैमिली डीटेल्स डालें

Nomination Details पर क्लिक करके लिखें कितने प्रतिशत शेयर का हकदार होंगे.

इसके बाद E-Sign पर क्लिक करें.

आधार रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP जाएगा.

प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपका नाॅमिनी खाते से EPF/EPS जुड़ जाएगा.

CTET एग्जाम अब ऑनलाइन, तथ्यात्मक की जगह क्रिटिकल थिंकिंग,रीजनिंग से होंगे प्रश्न, सिलेबस भी बदला

किसी भी स्कीम के लिए अकाउंट होल्डर को अपने उत्तराधिकारी यानी की नॉमिनी का नाम देना होता है. ताकि मृत्यू होने के बाद आपके नॉमिनी को पैसा मिल जाए. अगर आपने पीएफ में अकाउंट में किसी नॉमिनी का नाम नहीं दिया है तो घर बैठे आप ये काम कर सकते हैं. जिससे अगर अचानक परिस्थितियों में निवेशक का निधन हो जाए तो नॉमिनी को पैसा मिल सके. इसके लिए कुछ रूल है जिसके बाद आप घर बैठे कुछ स्टेप को फॉलो करते हुए नॉमिनी का नाम ऐड कर सकते हैं. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने भाग-दौड़ से बचने के लिए ये सुविधा शुरू की है. यह पूरी प्रक्रिया डिजिटल कर दी गई है.

इसके बाद Member UAN/Online Service पर क्लिक करें.

UAN और पासवर्ड के साथ लॉगइन करें.

मैनेज टैब पर क्लिक करने के बाद E- Nomination सिलेक्ट करें.

Provide Details टैब पर जाएं और पूरी जानकारी दें और Save कर दें.

फैमली से जुड़ी डीटेल्स के लिए Yes पर क्लिक करें. फैमिली डीटेल्स डालें

Nomination Details पर क्लिक करके लिखें कितने प्रतिशत शेयर का हकदार होंगे.

इसके बाद E-Sign पर क्लिक करें.

आधार रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP जाएगा.

प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपका नाॅमिनी खाते से EPF/EPS जुड़ जाएगा.

CTET एग्जाम अब ऑनलाइन, तथ्यात्मक की जगह क्रिटिकल थिंकिंग,रीजनिंग से होंगे प्रश्न, सिलेबस भी बदला

|#+|

EPFO की शुरुआत

EPF की शुरुआत 1952 में की गई थी. ये स्किम तब से चलती ई रही है ये काफी भरोसेमंद स्किम है जिसपर लोग आज भी भरोसा करते हैं. बड़ी संख्या में कर्मचारी इस स्कीम में पैसा इंनेवेस्टमेंट करते हैं. इस पूरी स्कीम में तीन अलग-अलग पक्ष होते हैं. पहला कर्मचारी, दूसरा नियोक्ता (Employer) और तीसरा सरकार. इंप्लायज प्रोविडेंट फंड में कर्मचारी के अपने बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ता (dearness allowance) को जोड़ कर 12% योगदान करना होता है. इसके बाद नियोक्ता को भी इतना ही योगदान करना होता है. ये पैसा रिटायरमेंट के वक्त निवेशक को ब्याज सहित पूरा पैसा वापस मिलता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें