NEET 2021: EWS कोटा उम्मीदवार को मिलेगा 10% का आरक्षण, इतनी हो परिवार की सालाना इनकम

Smart News Team, Last updated: Fri, 6th Aug 2021, 3:32 PM IST
  • केंद्र सरकार ने एसबीबीएस और बीडीएस के होने वाले राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (NEET) में EWS को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला किया है. इन उम्मीदवारों के परिवार की सालाना इनकम 8 लाख रुपए प्रति वर्ष से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.
नीट की परीक्षा में EWS कोटा उम्मीदवारों को मिलेगा 10 प्रतिशत आरक्षण.( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ: देश के चिकित्सा संस्थान, मेडिकल कॉलेज और मेडिकल विश्वविद्यालय में एमबीबीएस (MBBS) और बीडीएस के प्राठ्यक्रम में प्रवेश के लिए नीट (NEET) की परीक्षा का आयोजन किया जाता है. राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट) के आधार पर 66,000 से अधिक एमबीबीएस और बीडीएस सीटों पर प्रवेश परीक्षा है. भारत सरकार ने अखिल भारतीय कोटा योजना के तहत अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) को 27% आरक्षण और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (EWS) को 10% आरक्षण प्रदान करने का निर्णय लिया है.

अखिल भारतीय योजना के तहत राज्य के मेडिकल और डेंटल कॉलेजों को आरक्षण प्रदान किया जाएगा. EWS और ओबीसी के अलावा, अनुसूचित जाति ( एससी) के लिए 15% और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए 7.5% सीटें रिजर्व हैं. छात्रों को प्रवेश परीक्षा फार्म को कैटेगरी के हिसाब से भरना पड़ेगा. सामान्य वर्ग के अन परिवारों को ही EWS (Economically Backward Class) की श्रेणी में माना जाता है, जिनके परिवार की आमदनी 8 लाख रुपये प्रति साल से कम है.

UP BED JEE EXAM 2021: यूपी के 75 जिलों में कोविड गाइडलाइन के साथ परीक्षा शुरू

EWS कोटा क्या है.

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा वर्ष 2019 से NEET-UG प्रवेश में EWS कोटा लाया गया है. इस कोटे में आर्थिक रुप से कमजोर परिवार आते है. ऐसे परिवार के बच्चों को नीट परीक्षा में मिलने वाले 10 प्रतिशत आरक्षण में माना जाएगा. इसमें उम्मीदवार के परिवार की सालाना आय 8 लाख रुपये से कम होनी चाहिए. साथ ही परिवार के पास 5 एकड़ से अधिक कृषि भूमि नहीं होनी चाहिए. इसके अलावा आवासीय फ्लैट क्षेत्र में 1000 वर्ग फुट से कम होना चाहिए और आवासीय भूखंड क्षेत्र 100 वर्ग गज से कम होना चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें