घर पर छापेमारी के बाद बोले मुनव्वर- भारत जैसा सम्मान, पाकिस्तान का PM बनकर भी नहीं मिलता

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Jul 2021, 3:32 PM IST
  • गुरुवार की देर रात लखनऊ पुलिस शायर मुनव्वर राना के तलाशी के लिए पहुंच गई. राना ने आरोप लगाया है कि पुलिस बिना वांरट के घर की तलाशी ले रही थी. शायर ने कहा, कि जितना प्यार और सम्मान उन्हें भारत में मिला है, उतना पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने के बाद भी नहीं मिलता.
शायर मुनव्वर राना.( फाइल फोटो )

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हुसैनगंज में मशहूर शायर मुनव्वर राना के घर गुरुवार के देर रात यूपी पुलिस ने दस्तक दी. पुलिस ने घर में घुसने के बाद तलाशी शुरू कर दी. पुलिस के द्वारा अचानक की गई इस कार्रवाई से हैरान हो गए. मुनव्वर राना के परिवारों वालों ने बताया कि रात के करीब एक बजे काफी सख्या में पुलिसकर्मी उनके घर में घुसे थे. उनके साथ कुछ बिना वर्दी के भी लोग थे. परिवार के अनुसार पुलिस बिना सर्च वारंट के घर के अंदर तक पहुंच आई थी. मुनव्वर राना ने कहा, कि उनकी कविता और शायरी के लिए जितना सम्मान उन्हें अपने देश में मिला है उतना तो पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने के बाद भी नहीं मिलता.

पुलिस की कार्रवाई पर शायर मुनव्वर राना ने कहा, कि घर में घुसने के बाद पुलिस वालों ने मेरे और परिवार के साथ बदतमीजी की. बेडरूम में परिवार की महिलाएं होने के बाद भी पुलिस कर्मी सीधा कमरे में ही जा रहे थे. शायर राना ने कहा, पुलिस को घर में घुसने से पहले मुझसे बात करनी चाहिए थी. हिन्दुस्तानी होने के नाते मुझे इस देश में काफी सम्मान मिला है. यूपी पुलिस की इस कार्रवाई को लेकर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखूंगा. शायर राना की बेटी सुमैया राना ने पुलिस पर अभद्र व्यवहार करने का आरोप भी लगाया है.

लखनऊ: शायर मुनव्वर राणा के घर देर रात यूपी पुलिस ने की छापेमारी, बताई ये वजह

शायर मुनव्वर राना की बेटी फौजिया ने एक वीडियो जारी किया है. वीडियो में फौजिया ने कहा, मेरे बीमार पिता मुनव्वर राना को परेशान किया जा रहा है. पुलिस ने घर में बनी लाइब्रेरी की भी तलाशी ली है. फौजिया ने बताया कि पुलिस मेरा मोबाइल फोन भी ले गई है. बता दें कि 28 जून को रायबरेली में मुनव्वर राना के बेटे तबरेज पर बदमाशों ने गोली चला दी थी, जिसमें वह बाल-बाल बच गए. तबरेज पर दो राउंड फायरिंग हुई थी. इस मामले में तबरेज से पूछताछ भी की गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें