किसान आंदोलन की आग लखनऊ एयरपोर्ट पहुंची, जमीन मुआवजे के लिए धरना शुरू

Indrajeet kumar, Last updated: Fri, 26th Nov 2021, 9:29 AM IST
  • यूपी में अब किसान आंदोलन की आग राजधानी लखनऊ के चौधरी चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट तक पहुंच गई है. उचित मुआवजा ना मिलने से परेशान किसानों ने गुरुवार लखनऊ एयरपोर्ट पर धरना शुरू कर दिया है. हाल में ही भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने एयरपोर्ट के आसपास के किसानों से मुलाकात की थी.
लखनऊ के चौधरी चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर धरना पर बैठे किसान

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है. किसान आंदोलन की आग अब राजधानी लखनऊ लखनऊ तक पहुंच गया है. लखनऊ के चौधरी चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर किसानों ने अपनी जमीनों के मुआवजे के लिए धरना शुरू कर दिया है. यह किसान जमीन के उचित मुआवजे ना मिलने से परेशान हैं. पूर्व में हुए सरकार के साथ समझौतों को लागू करने के लिए दर्जनों किसान गुरुवार को एयरपोर्ट परिसर स्थित चौधरी चरण सिंह की प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठ गए. हाल में ही भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने एयरपोर्ट के आसपास रहने वाले किसानों से बातचीत की थी.

गौरतलब है कि किसान तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने समेत कोई मांगों को लेकर एक साल से धरने पर बैठे हैं. संयुक्त किसान मोर्चा ने लखनऊ में सोमवार को किसान महापंचायत बुलाई थी. इस महापंचायत में किसान आंदोलन को जारी रखने के सा- साथ पीएम मोदी को एक चिट्ठी लिखकर अपनी मांगों को पूरा करने की गुहार लगाई. इस महापंचायात के दौरान मंच पर लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए किसानों के परिजन भी मौजूद थे. राकेश टिकैत ने ट्वीट कर ये भी कहा था कि "आंदोलन नहीं रुकेगा क्योंकि हमारे कई मुद्दों जैसे एमएसपी गारंटी कानून, बीज बिल और दूध नीति का समाधान होना बाकी है. सरकार हमसे बात करे, नहीं तो हम घर नहीं जाएंगे.

NFHS Survey: उत्तर प्रदेश में 87 फीसदी महिलाएं लेती हैं घरों के फैसले

महापंचायत में संयुक्त किसान मोर्चा ने सरकार के कृषि कानून के वापसी के फैसले का स्वागत किया है. संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रधानमंत्री को भेजे चिट्ठी में सभी कृषि उपजों पर सभी किसानों के लिए लाभकारी एमएसपी का कानूनी अधिकार और खरीद सुनिश्चित करना, विद्युत संशोधन विधेयक 2020/2021 को वापस लेने की मांग, किसानों को दिल्ली वायु गुणवत्ता विनियमन से संबंधित दंडात्मक प्रावधानों के दायरे से अलग रखना, NCR और आसपास के इलाकों में हवा गुणवत्ता प्रबंधन आयोग अधिनियम 2021" से धारा 15 को हटाना, और किसान आंदोलन में हजारों किसानों पर लगाए गए मुकदमे वापस लेमे की मांगे की गई है. इसके अलावा ही यूनियन ने मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बरखास्तगी और गिरफ्तारी की भी मांग की है. आंदोलन के शहीदों के परिवारों को मुआवजा और पुनर्वास सहायता और सिंघू मोर्चा पर उनकी याद में एक स्मारक बनाने की भी मांग की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें