अयोध्या महिला बैंकर सुसाइड केस में IPS अफसर सहित तीन पर दर्ज हुआ FIR

Sumit Rajak, Last updated: Sun, 31st Oct 2021, 4:10 PM IST
  • अयोध्या महिला ऑफिसर श्रद्धा गुप्ता सुसाइड केस में आईपीएस अशीष तिवारी सहित तीन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है.मृतका रीडगंज के पीएनबी के सर्कल ऑफिस में वर्ष 2017 से कार्यरत थीं. मृतका ने अपने सुसाइड नोट में बताया कि उसकी शादी विवेक गुप्ता नाम के युवक से साथ तय हुई थी. लेकिन, बाद में महिला ने खुद शादी से इंकार की थी. विवेक अपने दोस्त IPS आशीष तिवारी और पुलिस अधिकारी अनिल रावत से फोन कराकर परेशान करता था.
मृतका, सुसाइड नोट 

 लखनऊः अयोध्या महिला ऑफिसर श्रद्धा गुप्ता सुसाइड केस में आईपीएस अशीष तिवारी सहित तीन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है. सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने यह कार्रवाई की.मिली जानकारी के अनुसार महिला अफसर ने अपने सुसाइड नोट में आईपीएस आशीष तिवारी, विवेक गुप्ता और एक अन्य पुलिस अधिकारी अनिल रावत अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया था.

अयोध्या के खवासपुरा के रहने वाले विष्णु अग्रवाल के घर में बैंक महिला ऑफिसर किराए पर रहती थीं. महिला मूल रूप से लखनऊ के राजाजीपुरम की रहने वाली थीं. इनके पिता राजकुमार गुप्त के कपड़े की दुकान हैं. मृतका रीडगंज के पीएनबी के सर्कल ऑफिस में वर्ष 2017 से कार्यरत थीं. शुक्रवार की शाम को ही परिवार वालों ने इनके मोबाइल पर कॉल किया था. लेकिन कॉल रिसीव नहीं हुआ और न ही मोबाइल ऑनलाइन दिख रहा था. शनिवार को मृतका के परिवार वालों ने परेशान होकर मकान मालिक को फोन किया. मकान मालिक ने जब बैंक ऑफिसर के कमरे में खिड़की से देखा तो श्रद्धा का पैर लटकता हुआ दिख रहा था. जिसके बाद इसकी जानकारी मकान मालिक ने  मृतका के परिजन को सूचना दीया. मकान मालिक ने अप्रिय घटना की आशंका जताई. पुलिस ने परिजनों की मौजूदगी में कमरे का दरवाजा तोड़ा. श्रद्धा का फंदे से शव लटकता हुआ दिख रहा था.जिसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया. पुलिस को मौके पर सुसाइड नोट भी मिला. श्रद्धा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा था कि उसकी विवेक गुप्ता के नाम के युवक से साथ शादी तय हुई थी.  लेकिन बाद में उसने  खुद शादी से इंकार कर दिया था. श्रद्धा ने अपने सुसाइड नोट में  IPS आशीष तिवारी और पुलिस अधिकारी अनिल रावत को भी अपनी मौत का दोषी ठहराया.

लखनऊ से मिर्जापुर जा रही रोडवेज की ट्रक से भीषण टक्कर, एक की मौत 12 घायल

श्रद्धा के पिता बोले, फोन कर तीनों करते थे परेशान

श्रद्धा के पिता ने कहा कि विवेक अपने दोस्त आशीष और अनिल रावत से उनकी बेटी को फोन कराकर परेशान करता था. पिता ने बताया कि मेरी बेटी श्रद्धा की शादी 2020 में विवेक गुप्ता से तय हुई थी. बेटी और दामाद की बातचीत फोन पर होती थी. जबकी कोरोना के चलते शादी नहीं हुई थी. इस बीच उसकी बेटी ने कहा कि विवेक की हरकत सही नहीं है. मैं उससे शादी नहीं करुंगी. उसकी बेटी ने शादी तोड़ दी थी. जिसके बाद वो कई तरह से उसे तंग करने लगा. इस बारे में उसकी बेटी ने कई बार मुझे बतायी थी. 

कौन है आईपीएस आशीष तिवारी

2012 बैच के आईपीएस आशीष तिवारी को हाल ही में एसएसएफ (स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स) का पहला इंचार्ज बनाया गया है. आशीष मूल रूप से मध्य प्रदेश के इटारसी के निवासी है. उसने 2002 से 2007 तक कानपुर आईआईटी से कम्प्यूटर साइंस में बीटेक और फ‍िर एमटेक कम्प्लीट क‍िया. 2007 में ही वह कैंपस प्लेसमेंट के जरिये लंदन की लेहमैन ब्रदर्स कंपनी में सि‍लेक्ट हुए, वहां पर उन्होंने डेढ़ साल काम किया. जिसके बाद उन्होंने जापान के नोमुरा बैंक में डेढ़ साल जॉब भी किया. दोनों बैंकों में एक्सपर्ट एनालिस्ट पैनल में उनका सिलेक्शन हुआ था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें