लखनऊ: यूपी विधानसभा गेट के पास ड्यूटी पर तैनात SI ने खुद को मार गोली, मौत

Smart News Team, Last updated: 04/03/2021 07:43 PM IST
  • यूपी विधानसभा गेट के पास अचानक गोली चलने से हड़कंप मच गया. विधानसभा सचिवालय के पास तैनात दरोगा ने खुद को गोली मार ली. अस्पताल में दरोगा की मौत हो गई है. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.
यूपी विधानसभा में तैनात दरोगा की गोली लगने से अस्पताल में मौत हो गई.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा गेट के पास अचानक गोली चलने से हड़कंप मच गया है. विधानसभा गेट पर तैनात दरोगा निर्मल चौबे ने खुद को गोली मार ली है. उनको आनन-फानन में सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई है. गोली चलने की सूचना मिलने पर जेसीपी कानून व्यवस्था नवीन अरोसा सिविल अस्पताल पहुंचे. मिली जानकारी के अनुसार, गोली उनकी सर्विस पिस्टल से चली है. उन्होंने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है जिसमें उन्होंने अपनी मौत का कारण अपनी बीमारी को बताया है.

ये घटना गुरुवार को यूपी विधानसभा के गेट नंबर 7 के पास हुई है. इस घटना के बारे में पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने कहा कि सब इंस्पेक्टर निर्मल कुमार चौबे 53 साल के थे और वे वाराणसी के चोलापुर के रहने वाले थे. उनकी ड्यूटी गेट नंबर 7 पर लगाई गई थी. अचानक दिन में 3 बजकर 3 मिनट पर गोली चलने की आवाज आई. इसके बाद अन्य पुलिसकर्मियों ने वहां जाकर देखा तो ये गिरे हुए थे. इन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां पर उन्होंने दम तोड़ दिया. कमिश्नर ने कहा कि उनके पास से सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जो उन्होंने मुख्यमंत्री जी को लिखा है. इसमें उन्होंने साफ लिखा है कि मेरी तबियत खराब है और मैं जा रहा हूं.

योगी सरकार का बड़ा फैसला, पूर्व सैनिकों को ग्रुप सी के पदों पर मिलेगा 5% आरक्षण

मौके से पुलिस को मिले सुसाइड नोट में मृतक दरोगा ने बीमारी के चलते इस कदम को उठाने की बात कही है. मुख्यमंत्री के नाम लिखे इस नोट में उन्होंने सीएम से बच्चों का ध्यान रखने की बात कही है हालांकि पुलिा अभी सुसाइड नोट की जांच कर रही है.

लखनऊ में दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज, करोड़ों की जमीन पर कब्जा करने का आरोप

सूत्रों के अनुसार, वो कुछ दिनों से मानसिक रूप से परेशान थे. गोली उनकी सर्विस पिस्टल से चली है. मृतक दरोगा निर्मल चौबे मूल रूप से वाराणसी के रहने वाले थे. यहां वे चिनहट में रहते थे. दरोगा बंथरा थाने में तैनात थे और गुरुवार को सचिवालय के पास ड्यूटी लगी थी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें