अरुणाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद का लखनऊ के पीजीआई में निधन

Smart News Team, Last updated: 20/01/2021 02:00 PM IST
  • अरुणाचल के पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद का बुधवार को लखनऊ के पीजीआई में निधन हो गया. वह कांगेस की तरफ से पांच बार विधायक रहे. वहीं वह  21 अक्टूबर 1993 से 31 मई 1999 तक अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल भी रहे. कुछ दिनों पहले सांस लेने में दिक्कत होने पर उन्हें लखनऊ के पीजीआई में भर्ती कराया गया था.
अरुणाचल के पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद.( फाइल फोटो )

लखनऊ: अरुणाचल के पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद का लखनऊ के पीजीआई में बुधवार सुबह निधन हो गया. वह 97 साल के थे. राज्यपाल माता प्रसाद का जन्म 11 अक्टूबर 1924 को यूपी के जौनपुर जिले के मछलीशहर में हुआ था. राजनीति में आने के बाद भी उनको सादगी के लिए जाना जाता था. माता प्रसाद कांग्रेस की तरह से पांच बार विधायक भी रहे. वह स्वर्गीय बाबू जगजीवन राम को अपना राजनीति गुरु मानते थे.

पूर्व राज्यपाल ने गोरखपुर के नॉर्मल स्कूल से ट्रेनिंग के बाद जिले के मड़ियाहूं ब्लॉक क्षेत्र के प्राइमरी स्कूल बेलवा में सहायक अध्यापक के रूप में कार्य किया. अपने टिचिंग काल में ही इनको लोकगीत लिखना और गाने का शौक हो गया. वर्ष 1955 में इन्होने क्रांगेस सदस्यता ग्रहण की. माता प्रसाद ने जिले की शाहगंज (सुरक्षित) विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के टिकट पर वर्ष 1957 से लेकर 1974 तक लगातार पांच बार विधायक रहे. वह 1980 से 1992 तक 12 वर्ष उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य रहे. यूपी के तत्कालीन सीएम नारायण दत्त तिवारी ने इन्हें अपने मंत्रिमंडल में 1988 से 89 तक राजस्व मंत्री बनाया था.

यूपी MLC चुनाव: निर्दलीय महेश शर्मा का नामांकन रद्द, BJP-सपा की सभी सीटों पर जीत तय

21 अक्टूबर 1993 को केंद्र की नरसिंह राव सरकार ने उन्हें अरुणाचल प्रदेश का राज्यपाल बनाया. वह 31 मई 1999 तक राज्यपाल रहे. पूर्व राज्यपाल माता प्रसाद को एक साहित्यकार के रुप में भी जाना जाता है. उन्होंने एकलव्य खंडकाव्य, राजनीति की अर्थ सतसई, परिचय सतसई, दिग्विजयी रावण जैसी काव्य कृतियों की रचना भी की. अगर परिवार की बात करे तो इनके तीन पुत्र थे. सबसे बड़े पुत्र इनकम टैक्स कमिश्नर रहें वही दूसरे पुत्र ने डॉक्टर रुप में कार्य किया. इनका बचपन मछली शहर के काजियान मोहल्ले में बहुत गरीबी में गुजरा है.

कोरोना टीकाकरण के दूसरे चरण में बदलाव, हेल्थ वर्करों को लगेंगी दो तरह की वैक्सीन

पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी और राम अचल राजभर का सरेंडर, कोर्ट ने भेजा जेल

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें