अखिलेश यादव का ड्रीम प्रोजेक्ट जेपी इंटरनेशनल सेंटर बिकेगा, LDA ने भेजा प्रस्ताव

Smart News Team, Last updated: 22/09/2020 08:15 PM IST
  • पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल में बने जेपी इंटरनेशनल सेंटर बिकने जा रहा है. इसके लिए एलडीए पिछले हफ्ते कास्टिंग कराकर इसका प्रस्ताव प्रशासन को भेज दिया है.
अखिलेश यादव ड्रीम प्रोजेक्ट जेपी इंटरनेशनल सेंटर

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय केंद्र को बेचने के लिए एलडीए ने प्रशासन को इसका प्रस्ताव भेजा है. इसकी कीमत 1642.83 करोड़ रुपए तय हुई है.

गौरतलब है कि जेपी इंटरनेशनल का निर्माण अखिलेश यादव ने अपने 2012-2017 के कार्यकाल में करवाया था. उस समय सरकार ने इसे बनाने के लिए 864.99 करोड़ रुपये स्वीकृत किए थे. जानकारी के अनुसार अभी तक 881.36 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं. इनमें अभी 27 करोड़ रुपये सिविल और 42 करोड़ रुपए इलेक्ट्रिकल के कार्यों के लिए देने हैं. इसके साथ ही काम पूरा करने के लिए 130.60 करोड़ रुपए की जरूरत है.

यमुना एक्सप्रेसवे की 1 हजार एकड़ में बनेगी UP की फिल्म सिटी, CM योगी ने दी मंजूरी

प्रशासन ने एलडीए से पूर्व निर्धारित बजट के अनुसार ही काम करने को कहा था जिस पर एलडीए ने अपनी असमर्थता जाहिर की. उसके बाद जब पिछले महीने अफसरों ने इसका निरीक्षण किया तो उन्होंने इसे बेचने के सुझाव दिए. इसके बाद एलडीए ने इसे बेचने का प्रस्ताव प्रशासन को भेजा था.

आपको बता दें कि इससे पहले भी एक बार इसे बेचने की बात उठ चुकी है लेकिन तब यह संभव नहीं हो पाया था. सेंटर का संचालन नहीं होने से मशीनें और उपकरण भी खराब हो रहे हैं. अधिशासी अभियंता आनंद मिश्रा ने बताया कि एक सप्ताह पहले सेंटर को बेचने का प्रस्ताव प्रशासन के आवास विभाग को भेज दिया गया था.

मुख्तार अंसारी का एक और गुर्गा हिरासत में, कई ठिकानों पर यूपी पुलिस की छापेमारी

75,464 वर्ग मीटर में बने हुए जेपी सेंटर में एक गेस्ट हाउस ब्लॉक, कन्वेंशन ब्लॉक, स्पोर्ट्स ब्लॉक, म्यूजियम ब्लॉक है. जिनकी अपनी अपनी खासियत हैं. इसके अलावा इस सेंटर में हजार वाहनों की मल्टी लेवल पार्किंग भी है.

मुख्य अभियंता एलडीए इंदु शेखर सिंह का कहना है कि जेपी सेंटर को तैयार हुए अब काफी समय हो गया है. इसीलिए इसका संचालन जरूरी है. प्रशासन से इसे बेचने के प्रस्ताव को तैयार करने के लिए कहा था. पिछले हफ्ते इसकी कास्टिंग कराकर इसे प्रशासन को भेज दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें