पाकिस्तान से जीता लेकिन कोरोना की जंग हारा टाइगर, निजी क्लिनिक में चल रहा था इलाज

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Apr 2021, 9:02 AM IST
  • भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसी रॉ के एजेंट रहे मनोज रंजन दीक्षित की सोमवार को कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई. उनके कोरोना संक्रमण का इलाज लखनऊ के एक क्लिनिक में चल रहा था.
पाकिस्तान से जीता लेकिन कोरोना की जंग हारा टाइगर, निजी क्लिनिक में चल रहा था इलाज

लखनऊ. कोरोना महामारी ने एक और की जान ले ली. वही इस बार इसने देश के लिए पाकिस्तान में जासूसी करने वाले टाइगर रॉ के पूर्व एजेंट मनोज रंजन दीक्षित की जिंदगी लीन ली. वह कुछ दिन पहले ही कोरोना संक्रमित होने पर लखनऊ के एक क्लीनिक में भर्ती हुए थे. जहां पर उनकी स्थिति गंभीर बताई जा रही थी. वही उन्हें जल्द ही किसी कोरोना अस्पताल में शिफ्ट भी किया जाना था, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण सोमवार को उनकी सांसे थम गई. भले ही वह पाकिस्तान से जीत गए हो, लेकिन कोरोना की जंग में उनकी मौत हो गई.

जानकारी के अनुसार पूर्व रॉ एजेंट मनोज रंजन दीक्षित के कोरोना संक्रमित होने के बाद उन्हें कुछ समाजसेवियों ने एक निजी क्लीनिक में उपचार के लिए भर्ती करवाया था, लेकिन उनकी हालत वहां पर बिगड़ती ही चली गई. वहिं जब इसकी जानकारी कोविड कमांड सेंटर की प्रभारी ऋतु सुहास को हुआ तो उन्होंने मनोज रंजन दीक्षित को कोविड अस्पताल में भर्ती कराने के लिए कवायद शुरू कर दी थी, लेकिन समय पर उन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती नहीं कराए जाने के कारण उनकी मौत हो गई. वही 2013 में उनकी पत्नी की कैंसर के कारण मौत हो चुकी है. 

बोकारों से लखनऊ पहुंची ऑक्सीजन की दूसरी खेप, एक्सप्रेस के लिए बना ग्रीन कॉरिडोर

आपको बता दे कि रॉ के पूर्व एजेंट रह चुके मनोज रंजन दीक्षित 1992 में पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था. जिन्हें सर्वोच्च अदालत के निर्देश पर 2005 में रिहा कर दिया गया था. वही जब पिछले साल कोरोना महामारी के कारण लॉक डाउन लगा था तो उनकी प्राइवेट नौकरी भी छूट गई थी. जिसके बाद से ही वह मुफलिसी के शिकार हो गए थे. वही जब उनकी कहानी हिंदुस्तान ने सबके सामने लाई तब बहुत से लोगों ने उनकी मदद की थी, लेकिन आज उनकी जान  कोरोना संक्रमण के कारण चली गई.

CM योगी का निर्देश- बुजुर्ग, बच्चे और गर्भवती महिलाएं न निकलें घर से बाहर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें