यौन शोषण केस में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ 13 अक्टूबर को पीड़िता की गवाही

Smart News Team, Last updated: 09/10/2020 09:31 PM IST
  • यौन शोषण मामले के आरोपी पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ 13 अक्टूबर को पीड़िता की गवाही होगी. शुक्रवार को समय की कमी की वजह से गवाही पूरी नहीं हो पाई. 
स्वामी चिन्मयानंद पर शाहजहां एक कॉलेज की लाॅ छात्रा को बंधक बनाकर यौन शोषण करने का आरोप है.

लखनऊ. यौन शोषण मामले में फंसे पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ 13 अक्टूबर को पीड़िता गवाही देगी. शुक्रवार को समय की कमी की वजह से पीड़िता की गवाही पूरी नहीं हुई है. जिसके बाद एमपी-एमएलए कोर्ट के विशेष जज पवन कुमार राय ने पीड़िता की गवाही के लिए 13 अक्टूबर की तारीख तय की है.

पहले इलाहाबाद हाइकोर्ट ने आरोपी स्वामी चिन्मयानंद को पीड़ित द्वारा दर्ज कराए गए पुराने बयान की काॅपी देने के लिए कहा था. जिसे सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिया है. जिसके बाद पीड़िता की गवाही हो रही है. जिसके लिए पीड़िता शुक्रवार को पुलिस की सुरक्षा में गवाही देने आई. सरकारी वकील अभय त्रिपाठी के मुताबिक, लगभग 12 बजे शुरू हुई गवाही देर शाम तक चलती रही. समय की कमी की वजह से अब 13 अक्टूबर को पीड़िता की गवाही होगी. गवाही के दौरान आरोपी चिन्मयानंद भी कोर्ट में ही मौजूद था.

दशहरा, दिवाली के लिए UP सरकार की गाइडलाइंस, जानें कोरोना में त्योहारों के नियम

आपको बता दें कि स्वामी चिन्मयानंद पर शाहजहां की लाॅ की छात्रा को बंधक बनाकर यौन शोषण करने का आरोप है. 24 अगस्त 2019 को लाॅ की छात्रा ने फेसबुक पर एक वीडियो अपलोड किया था. जिसमें उसने बिना नाम लिए अपने साथ हुए यौन शोषण और दुराचार की बात कही थी. पीड़िता ने कहा था कि उसे और उसके परिवार को एक संत से खतरा है. 

कांशीराम पुण्यतिथि: मायावती का इशारा- विपक्षी पार्टियों से चंदा लेती है भीम आर्मी

पूर्व बीजेपी नेता पर यौन शोषणक के आरोप के बाद सुुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ गठित करवाई और एसआईटी को पूरे मांमले की जांच के निर्देश दिए थे. जिसके बाद पिछले साल सितंबर में पुलिस और एसआईटी ने चिन्यमानंद को अरेस्ट किया था. हालांकि फरवरी में उसे रिहा भी कर दिया गया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें