गैंगरेप केस: SP सरकार के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति दोषी करार, इस दिन सुनाई जाएगी सजा

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 9:59 PM IST
  • सपा सरकार में मंत्री रहे गायत्री प्रजापति को एमपीएमएलए कोर्ट ने गैंगरेप मामले में दोषी करार दे दिया है. गायत्री के साथ इस मामले में दो और लोग दोषी करार गिए गए है. इस केस में कोर्ट अब 12 नवंबर को सजा सुनाएगा. वहीं, इस मामले में 4 लोगों को बरी कर दिया गया है.
गैंगरेप मामले में सपा सरकार के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति समेत 3 लोग दोषी करार

लखनऊ. एमपीएमएलए कोर्ट ने बुधवार को सपा शासनकाल के पूर्व मंत्री और सपा नेता गायत्री प्रजापति समेत 3 लोगों को गैंगरेप और पॉक्सो एक्ट के मामले में दोषी करार किया है. इस मामले अभियुक्त अन्य चार लोगों को कोर्ट ने बरी कर दिया है. इस मामले में फैसला सुरक्षित करते हुए कोर्ट ने सजा 12 नवंबर को सुनाने का फैसला दिया है.

इस मामले में गायत्री के साथ अशोक तिवारी, आशीष शुक्ला को दोषी करार किया गया है. वहीं, विकास वर्मा, रूपेश्वर, अमरेंद्र सिंह पिंटू और चंद्रपाल को बरी कर दिया गया है.

अखिलेश यादव के बाद राजभर ने दिखाया जिन्ना प्रेम, BJP बोली- खरबूजे को देखकर...

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दर्ज हुआ था केस

इस मामले में 2017 में चित्रकूट की रहने वाली एक महिला ने पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति समेत उनके कई साथियों के खिलाफ गैंगरेप और बेटी के साथ छेड़खानी का आरोप लगाया था, लेकिन उस वक्त सत्ता की हनक के चलते मामला दर्ज न होने पर पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की. जिस पर फैसला सुनाते हुए 18 फरवरी 20217 को गौतमपल्ली थाने में पूर्व मंत्री समेत अन्य 6 के खिलाफ मामला दर्ज किया. इस दौरान पुलिस ने सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया. 

कासगंज पुलिस कस्टडी में युवक की मौत पर हमलावर विपक्ष, अखिलेश बोले निलंबन दिखावा हो जांच

4 साल केस चलने के बाद अब आया फैसला

इस मामले में चार साल पहले केस दर्ज हुआ था. जिसमें करीब 17 अभियोजन गवाह पेश किए गए. इस दौरान शुरुआत में महिला ने गायत्री प्रजापति द्वारा परिवार को जान से मारने की धमकी देने का भी आरोप लगाया था.

एक ही सरकार में राज्य, स्वतंत्र प्रभार से बने कैबिनेट मंत्री

बता दें कि गायत्री 2012 में अमेठी से जीतकर विधायक बने थे. जिसके बाद 2013 में उन्हें सिंचाई विभाग का राज्यमंत्री बनाया गया. उसके बाद 2013 में ही उन्हें स्वंतत्र प्रभार मिला. वहीं, 2014 में खनन विभाग का कैबिनेट मंत्री बनाया गया. 1995 में समाजवादी पार्टी से राजनीति शुरू करने वाले गायत्री 2017 में अपनी सीट से ही चुनाव हार गए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें