सचिवालय में नौकरी के नाम पर लाखों रुपये की ठगी, STF ने ठगों को ऐसे किया अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 12/10/2020 07:05 AM IST
  • लखनऊ में सचिवालय में सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले दो ठगों को एसटीएफ ने अरेस्ट कर लिया है. ठगों के पास से फर्जी नियुक्ति पत्र, दस्तावेज और कार बरामद हुआ है.
सचिवालय में नौकरी के नाम पर लाखों रुपये की ठगी, STF ने ठगों को ऐसे किया अरेस्ट.

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ में सचिवालय में सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करके लाखों रुपये वसूलने वाले दो आरोपियों को एसटीएफ ने अरेस्ट कर लिया है. एसटीएफ ने इन ठगों के पास से फर्जी नियुक्ति पत्र, दस्तावेज और कार को बरामद किया है. एसटीएफ ने बताया कि दोनों आरोपी हरदोई के रहने वाले हैं. 

एसटीएफ के डिप्टी एसपी डीके शाही ने बताया कि इन आरोपियों की पहचान हरदोई निवासी देवेश कुमार मिश्र और खीरी निवासी विनीत कुमार मिश्र के रुप में हुई हैं. एसटीएफ ने बताया कि दोनों ठग रविवार को इंदिरानगर में अरविन्दो पार्क के पास से एक बेरोजगार से रुपये वसूलने आए थे, तभी एसटीएफ ने उन्हें दबोच लिया. एसटीएफ ने बताया कि इस गिरोह में कई लोग शामिल है. इस गिरोह का मुख्य काम सचिवालय में क्लर्क और चतुर्थ श्रेणी पद पर नौकरी दिलाने के नाम पर बेरोजगारों से ठगी करना होता है. एसटीएफ के मुताबिक इस गिरोह का सरगना देवेश कुमार मिश्र है. 

लखनऊ:ऑनलाइन दवा बिक्री के नाम पर ठगी, पुलिस ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

एसटीएफ ने बताया कि ठगों ने सचिवालय में क्लर्क की नौकरी दिलाने के लिए पांच लाख रुपये और चतुर्थ श्रेणी पद के लिए 2-3 लाख रुपये लेते थे. ठग गिरोह बेरोजगारों को सचिवालय के बाहर बुलाकर रुपये वसूलते थे.. एसटीएफ ने बताया अभी तक ठगों ने दो दर्जन से ज्यादा बेराजगारों से ठगी की हैं. 

हाथरस केस: योगी सरकार को बदनाम करने के लिए पाकिस्तान से किए गए ट्वीट्स,जांच जारी

एसटीएफ ने कहा कि इन ठगों ने कई लोगों को फर्जी नियुक्ति पत्र तक दे दिए थे. इन फर्जी नियुक्ति पत्र पर सचिवालय की मुहर व लोगो तक लगा हुआ था. एसटीएफ इस बात का पता लगा रही है कि कहीं सचिवालय का कोई कर्मचारी तो ठगों से नहीं मिला है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें