फरीदाबाद में दोस्त की हत्या की, लखनऊ पुलिस ने आगरा एक्सप्रेस-वे पर दबोचा

Smart News Team, Last updated: Mon, 28th Dec 2020, 10:49 AM IST
  • फरीदबाद के पाली क्रशर में काम करने वाले एक शख्स ने अपने दोस्त तनवीर की हत्या कर दी और लखनऊ की तरफ जा रही बस से भाग निकला। पुलिस ने आगरा एक्सप्रेस वे के दूसरे छोर की इंटरनेट से लोकेशन ट्रेस की और वहां की पारा पुलिस से संपर्क कर बस को रुकवाकर आरोपित को गिरफ्तार करवा लिया।
फाइल फोटो

लखनऊ: फरीदाबाद में साथ में काम करने वाले दोस्त की हत्या करके भागे शख्स को लखनऊ की पुलिस ने शनिवार को आगरा एक्सप्रेस-वे पर नाकाबंदी करके पकड़ लिया। फरीदाबाद पुलिस ने आरोपित को पकड़ने के लिए लखनऊ पुलिस से मदद मांगी थी। आरोपित को फरीदाबाद पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है।

 फरीदाबाद  के पाली क्रशर जोन में पत्नी गीता के साथ रहकर रणजीत मजदूरी करता था। इलाके में ही बिहार निवासी तनवीर भी रहकर मजदूरी करता था। गीता के मुताबिक पति रणजीत 25 दिसंबर की दोपहर तनवीर के साथ बैठकर शराब पी रहा था। इसी दौरान किसी बात को लेकर दोनों में विवाद हो गया। मारपीट शुरू होने पर गीता ने दोनों को अलग किया था।

जंगल में मिला था शव

पुलिस के अनुसार 26 दिसम्बर को रणजीत लापता हो गया। शाम को शव पॉली क्रशर इलाके में जंगल में मिला था। सिर पर चोट के निशान थे। इस संबंध में पत्नी गीता ने रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। शक जाहिर किया था कि तनवीर ने विवाद के कारण रणजीत की हत्या कर दी। जानकारी होते ही क्राइम ब्रांच डीएलएफ सक्रिय हो गई। क्राइम ब्रांच प्रभारी एसआई अनिल कुमार के अनुसार पता चला कि तनवीर बिहार जा रहा है। फरीदाबाद बाईपास से रोज एक बस सीधे बिहार जाती है। उक्त बस की लोकेशन पता करने पर एक्सप्रेस-वे पर लखनऊ के पास होने की जानकारी मिली।

केजीएमयू : डॉक्टरों ने हाथ पर उगाया कान, फिर ट्रांसप्लांट किया

 पारा इंस्पेक्टर को फोन करके मांगी थी मदद

बस की लोकेशन मिलने के बाद इंटरनेट से पारा थाने का नंबर हासिल किया और थाना प्रभारी को फोन किया। पारा थाना प्रभारी ने तुरंत एक्सप्रेस-वे पर नाकाबंदी करवाई। इंस्पेक्टर पारा त्रिलोकी सिंह के मुताबिक बस को रोकने के साथ ही विडियो कॉल से यात्रियों के चेहरे एक-एक करके फरीदाबाद क्राइम ब्रांच के एसआई अनिल कुमार को दिखाए गए। इसमें तनवीर पकड़ में आ गया। आरोपित को उतारकर बस जाने दी गई। इसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम पारा थाने से आरोपित को फरीदाबाद ले गई। क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने उसे अदालत में पेश कर 30 दिसंबर तक की रिमांड पर लिया है। एसीपी क्राइम अनिल कुमार का कहना है कि क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने बेहतर कार्य किया। आरोपित अगर बिहार पहुंच जाता तो पकड़ना मुश्किल होता। पड़ताल में पता चला है कि आरोपित तनवीर साजिश के तहत रणजीत को पहाड़ियों में ले गया और शराब पिलाई। इसके बाद सिर पर वार करके हत्या कर दी थी।

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें