फर्जी कागजात बनवाकर चोरी की गाड़ियां बेचने वाला गिरोह गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Sat, 7th Nov 2020, 2:15 PM IST
  • लखनऊ पुलिस को एक बड़ी सफलता हासिल हुई है. चौक पुलिस ने वाहन चोरी करके आरटीओ कर्मचारियों की मिलीभगत से उनका मालिकाना हक बदलवा कर आरसी तैयार करके बचने वाले गिरोह के तीन सदस्यों गिरफ्तार किया है.
गिरोह के पास से चोरी की 10 बाईकें बरमाद

लखनऊ: वाहन चोरी करके आरटीओ कर्मचारियों की मिलीभगत से उनका मालिकाना हक बदलवा कर आरसी तैयार करके बचने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को लखनऊ पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उनके पास से चोरी की 10 बाईक बरमाद की गई हैं. पुलिस का कहना है कि गिरोह के अन्य सदस्यों और आरटीओ में कार्यरत कर्मचारियों की भूमिका के बारे में छानबीन की जा रही है.

इंस्पेक्टर विश्वजीत सिंह के मुताबिक उनके इलाके से एक व्यक्ति की बाइक चोरी हो गई थी. रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने बाइक के संबंध में डीसीआरवी व अन्य डिटेल मांगी थी. बाइक का ई-चालान ऐप में भी चेक किया गया था. ऐप में चेक करने पर बाइक के मालिक का नाम दूसरा दिखाई दे रहा था. चौक पुलिस ने उस व्यक्ति से संपर्क किया, जिसके नाम पर बाइक दर्ज थी. इस दौरान उस व्यक्ति ने बताया कि उनसे बाइक खरीदी है. जिसके बाद पुलिस ने गहनता से छानबीन की तो पता चला की डालीगंज निवासी सईद मो. युसुफ और सीतापुर निवासी शुभम रस्तोगी नाम के दो लोगों ने बाइक बेची थी. पुलिस ने दोनों को पकड़ कर सख्ती से पूछताछ की तो पता चला कि वह लोग बाइक चोरी करने के बाद आरटीओ कर्मचारियों की मिलीभगत से उसके पेपर तैयार करवाकर बेच देते थे.

KGMU में अब कोबाल्ट ब्रेकी थेरपी से होगा कैंसर का इलाज

पुलिस के मुताबिक, आरोपी आरटीओ कर्मचारियों की मदद से चोरी के वाहनों का मालिकाना हक बदलवा देते थे. चोरी के वाहन की नंबर प्लेट बदलकर आरोपी वाहनों का इस्तेमाल किया करते थे. आरोपित 8 और वाहन बेचने के फिराक में थे. पुलिस ने चौक पुलिस स्टेशन से चोरी हुई तीन, वजीरगंज से चोरी हुई दो, सरोजनीनगर से चोरी हुई दो व विकास नगर से चोरी हुई एक बाइक समेत 10 चोरी के दो पहिया वाहन बरामद किए हैं. पुलिस ने बताया कि आरोपितों पर 8 आपराधिक मामले भी दर्ज हैं. पुलिस इस बारे में पता कर रही है कि आरटीओ में कौन कर्मचारी आरोपितों के साथ मिला हुआ है.

CM योगी ने 896 PAC जवानों को दिवाली से पहले दी सौगात, डिमोशन का आदेश वापस

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें