UP: जीनोम सीक्वेंसिंग से मिले 11 डेल्टा के नए मरीज, एक कप्पा वैरिएंट

Smart News Team, Last updated: Wed, 4th Aug 2021, 11:24 AM IST
  • कुछ राज्यों में कई नए वेरिएंट देखने को मिले हैं. हाल ही में यूपी के कई जिलों में नए डेल्टा वेरिएंट की पुष्टी की गई है. रिपोर्ट में 11 नमूनों में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हुई है.
जीनोम सीक्वेंसिंग से मिले 11 डेल्टा के नए मरीज

कोरोना की दूसरी लहर के बाद तीसरी लहर का डर लोगों को सता रहा है. कुछ राज्यों में कई नए वेरिएंट देखने को मिले हैं. हाल ही में यूपी के कई जिलों में नए डेल्टा वेरिएंट की पुष्टी की गई है. हाल ही में किए नए टेस्ट की रिपोर्ट में 11 नमूनों में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टि हुई है. इन वेरिएंट में एक में कप्पा वैरिएंट पाया गया है. जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए यह नमूने एसएन मेडिकल कालेज से लखनऊ भेजे गए थे. ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि कोविड का कोई नया वेरिएंट तो नहीं है?

मंगलवार को 12 की रिपोर्ट आ गई है, रिपोर्ट के मुताबिक 11 नमूनों में डेल्टा वैरिएंट पाया गया है. जबकि एक सैंपल में 'कप्पा' वैरिएंट की पुष्टि हुई है. इन 12 मरीजों में आठ आगरा, दो हाथरस, एक मथुरा और एक मैनपुरी के हैं. आगरा में पहले भी डेल्टा के कई मरीज सामने आ चुके हैं. लेकिन इस वेरिएंट से डरने की कोई बात नहीं है कि क्योंकि विशेषज्ञों ने कहा है कि डेल्टा या डेल्टा प्लस से बहुत कम खतरनाक होता है. कप्पा वैरिएंट अक्टूबर 2020 में पहली बार देश में पाया गया था.यह डबल म्यूटेट स्ट्रेन है.इसकी जटिल प्रकृति को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट भी कहा है. हालांकि इसके खिलाफ देश में मौजूद दोनों तरह की वैक्सीन प्रभावशाली हैं.

कप्पा वैरिएंट के लक्षण और बचाव

कोविड के दूसरे वैरिएंट की तरह ही कप्पा वैरिएंट के लक्षण हैं. इसमें बुखार, खांसी, स्वाद और गंध का चले जाना, बदन दुखना, सिर दर्द, मुंह सूखना आदि शामिल हैं. कुछ मामलों में नाक और आंख से पानी भी आ सकता है. इस वैरिएंट में शरीर पर लाल निशान भी पड़ते देखे गए हैं. इसका बचाव भी मास्किंग और टीकाकरण है.

Up: यूपी के पूर्व मंत्री चौधरी बशीर की पत्नी का वीडियो वायरल, लगाएं गंभीर आरोप

 

क्या है डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट

डेल्टा वैरिएंट मूल वैरिएंट से अधिक खतरनाक होता है. यह शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र को चकमा देने में माहिर होता है. विज्ञानियों ने खुलासा किया है कि डेल्टा वैरिएंट सेल-टू-सेल फ्यूजन को प्रेरित करने की क्षमता को बढ़ाता है. इसके कारण शरीर में वैक्सीन और संक्रमण से बचाव के लिए एंटीबाडी के लिए संवेदनशीलता कम हो जाती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें